VIDEO गर्मी में फसलें सूखने लगीं थीं, बारिश ने दी राहत

Manish Kumar Dubey | Publish: Jul, 26 2019 03:20:24 PM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

गर्मी में फसलें सूखने लगीं थीं, बारिश ने दी राहत

खेतों में रौनक, पैदावार पर पड़ेगा असर
जैसीनगर. बुधवार को दिनभर गर्मी ने लोगों को जमकर सताया। वहीं आधी रात को आई झमाझम बरसात ने मौसम को बदलने का काम किया। बरसात के बाद लोगों को गर्मी से राहत मिली और किसानों ने राहत की सांस ली। हल्की बारिश के बाद गर्मी पडऩे लगी थी जिसका असर फसलों पर पडऩे लगा था। कई फसलें सूखने के कगार पर आ गईं थी। बरसात से फसलों में रौनक लौट आई है और किसानों के चेहरे खिले हैं।पिछले 15 दिन से इलाके में गर्मी का प्रकोप था। लोगों को जीना मुहाल हो गया था। लोगों का कहना है कि इस उमस भरी गर्मी से तो जून माह में चली लू ही ठीक थी। लू के वक्त भले ही तापमान 47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया लेकिन अब इलाके में बेहद कम हुई बारिश के कारण धरती की गर्मी ने वातावरण को उमस भरा बना दिया है। इससे जून से ज्यादा दिक्कत हो रही है। क्षेत्र में पिछले कई दिनों से बरसात ना होने के कारण सोयाबीन उड़द अरहर धान की फसलों में नुकसान होने की चिता किसानों के सिर पर मंडराने लगी थी। बुधवार को तेज हवा के साथ आई बरसात से क्षेत्र के किसानों के चेहरों पर खुशी साफ देखी जा सकती थी। किसानों का कहना है कि पिछले साल की अपेक्षा इस वर्ष हम लोगों की बोनी 15 दिन लेट हुई है जिससे उत्पादन पर भी असर पड़ेगा उत्पादन पर ज्यादा कोई प्रभाव ना हो इसके लिए हम लोगों ने प्रकृति से तालमेल बैठाने के लिए कम अवधि वाली फसलों की बोवाई की है जिससे उत्पादन पर ज्यादा कोई प्रभाव
नहीं पड़ेगा।
सोयाबीन कम दिनों में अधिक पैदावार करता है इसलिए समस्त किसानों को अधिक मात्रा में मॉडल 9560, 20 34, आरबीएस 2001 उड़द की फसल कम दिनों में तैयार हो जाती हैं। किसानों
को इन फसलों को बोने की सलाह दी गई है।
केसी जैन,
कृषि विभाग अधिकारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned