सर्विस केबल के नाम पर असंगठित मजदूरों से वसूल रहे डेढ़ हजार रुपए

सर्विस केबल के नाम पर असंगठित मजदूरों से वसूल रहे डेढ़ हजार रुपए

Manish Kumar Dubey | Publish: Oct, 13 2018 05:17:02 PM (IST) | Updated: Oct, 13 2018 05:17:03 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

ठेकेदार की दादागिरी

रुपए न देने पर नहीं दिया कनेक्शन, लेकिन कंपनी रिकार्ड में बता दिया कनेक्शन
उपभोक्ताओं को फार्म भरते ही आने लगा बिजली बिल
सागर. बिजली कंपनी की सरल और सौभाग्य योजना में अनियमितताओं का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। कभी उपभोक्ताआें को बंद मीटर का बिजली थमाया जा रहा है तो कहीं काम कर रहे ठेकेदार असंगठित मजदूरों से कनेक्शन देने के नाम पर वसूली में जुटे हुए हैं। इतना ही नहीं मकरोनिया नगर पालिका के वार्ड नंबर एक में तो चौकाने वाला मामला सामने आया है। जहां पर उस व्यक्ति को बिजली बिल थमा दिया गया है, जिसने अभी केवल आवेदन ही किया है, जबकि बिजली मीटर और कनेक्शन का घर में कोई नामो-निशान तक नहीं है। एेसा नहीं है कि बिजली कंपनी के अधिकारियों को इन अनियमितताओं को और ठेकेदारों की मनमर्जी की जानकारी नहीं है, इसके बाद भी अब तक उपभोक्ताओं की समस्याएं सुलझाने पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
सेमराबाग निवासी धर्मेंद्र पटैल, कुंदन पटैल ने बताया कि उन्होंने दो सौ रुपए वाले कनेक्शन के लिए आवेदन किया था। इसके बाद कनेक्शन करने आए लोगों ने धर्मेंद्र से ढाई सौ रुपए केबल के नाम पर मांगे थे, तो वहीं चाचा कुंदन से डेढ़ हजार रुपए की मांग की गई है। इसके अलावा यह भी बताया जा रहा है कि गांव के अधिकांश लोगों से केबल के नाम पर रुपयों की मांग की जा रही है, जबकि नियमानुसार उपभोक्ताआें को मुफ्त कनेक्शन दिया जाना है।
अधिकारियों को दे रहे गलत जानकारी
हालही में शहर से करीब २० किलो मीटर दूर स्थित ढाना गांव का मामला सामने आया था, जहां पर पूरे एक मोहल्ले के उपभोक्ताओं को बिना कनेक्शन के बिजली कंपनी बीते दो माह से बिल थमा रही थी। इसके बाद यह दूसरा मामला नगर पालिका के वार्ड नंबर एक का है जहां न कनेक्शन दिया गया है और न ही घर में मीटर लगाया गया है, उपभोक्ता को आवेदन करने के बाद ही बिजली बिल थमाना शुरू कर दिया है। दोनों मामलों में यह बात भी सामने आई है कि स्थानीय अधिकारी और सौभाग्य व सरल योजना के तहत काम देख रहे ठेकेदार कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों को भ्रामक जानकारियां प्रस्तुत कर रहे हैं।

जिन उपभोक्ताओं के यहां कनेक्शन होने की जानकारी दी गई है उन्हें ही बिल जारी हुए हैं। यदि कोई केबल या अन्य चीज को लेकर रुपयों की मांग की जा रही है तो यह नियम विरुद्ध है। मामले को दिखवाकर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
जीडी त्रिपाठी, अधीक्षण, अभियंता, सागर

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned