निकाय व प्रशासनिक अधिकारियों को अपने कार्यालयों में करनी होगी रूफ वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था

निकाय व प्रशासनिक अधिकारियों को अपने कार्यालयों में करनी होगी रूफ वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था

Madan Gopal Tiwari | Publish: May, 18 2019 07:00:00 AM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

संभागायुक्त की पेयजल संकट पर नजर, एसडीएम, तहसीलदार, सीएमओ, सीइओ को जारी किए वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था करने के निर्देश।

 

सागर. संभाग आयुक्त मनोहर दुबे की अध्यक्षता में शुक्रवार को विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। जिसमें उन्होंने जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार, जनपद सीईओ व निकायों के सीएमओ को अपने-अपने कार्यालयों में रूफ वाटर हावेस्टिंग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी व नगरीय निकाय के अधिकारियों से पेयजल की उपलब्धता की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि पेयजल के लिए किसी भी व्यक्ति को परेशान न होना पड़े इस बात का ध्यान रखा जाए। जिले में स्थापित जिन नलजल योजनाओं में पानी उपलब्ध है उन्हें निरंतर चालू रखा जाए। यदि कोई भी नलजल योजना किसी कारण से बंद है तो उसे तत्काल चालू करने करने का प्रबंध करें। जिन नलजल योजनाओं के जल स्त्रोत सूख गए हैं उनके स्थान पर दूसरे स्थान पर नलकूप खनन कर पेयजल उपलब्ध कराने की व्यवस्था करें। कहीं भी पेयजल की कमी दिखाई देने पर पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए ग्राम पंचायत के सरपंच व सचिवों से मिलकर पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करें।

पीएचई विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पेयजल से संबंधित समस्याओं के निराकरण के लिये कंट्रोल रूम स्थापित किया गया। जिसमें 541 शिकायतें आई जिनका निराकरण समय-सीमा में कर दिया गया। उन्होंने कहा कि पेयजल की उपलब्धता के लिए नगरीय प्रशासन और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग मिलकर कार्य करें। बैठक में कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक, जिला पंचायत सीईओ चन्द्रशेखर शुक्ला, नगर निगम आयुक्त अनुराग वर्मा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, ईई पीएचई, जिला आपूर्ति नियंत्रक, उपायुक्त सहकारिता, महाप्रंबधक सीसीबीए डीडीए मौजूद थे।

मातृ एवं शिशु मृत्युदर को कम करने पर फोकस

संभागायुक्त दुबे ने स्वास्थ्य विभाग की आरसीएच कार्यक्रम के संबंध में विस्तारपूर्वक चर्चा करते हुए कहा कि जिले की मातृ एवं शिशु मृत्युदर को कम करने, जन्मजात विकृति, इंफेक्शन व कुपोषण से बचाने के लिए जरूरी है कि लक्ष्य दम्पत्तियों से निरंतर सम्पर्क रखा जाए। इसके लिए आगनवाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम यह सुनिष्चित करें कि गर्भवती महिला को क्या-क्या आवश्यक उपचार दिए जाने है। महिला के गर्भवती होने के साथ समय-समय पर किए जाने वाले स्वास्थ्य परीक्षण कर आवश्यक दवाइयां देने के साथ टीके लगाए जाएं। लक्ष्य दम्पत्तियों आदि की जानकारी पोर्टल पर अपडेट करें। इसके लिए एसडीएम, तहसीलदार प्रत्येक माह एक बार इस संदर्भ में समीक्षा बैठक भी लेना सुनिश्चित करें।

भुगतान में न आए परेशानी

उपार्जन से जुडे विभागों के अधिकारियों से गेंहू, चना, मसूर आदि के परिवहन, भंडारण व भुगतान के संबंध में चर्चा करते हुए कहा कि खाद्यान्न का समय पर परिवहन कर भंडारण कराएं। भुगतान की प्रक्रिया को निरंतर रखा जाए। यदि भुगतान में किसी तरह की कठिनाई आ रही है तो उसे दूर करने के प्रयास किए जाएं। उन्होंने खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत जिले में अब तक की गई कार्रवाई के संबंध में जानकारी लेने के साथ निर्देश दिए कि आधार कार्डों की शत प्रतिशत पोर्टल पर फीडिंग कराई जाए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned