90 प्रतिशत भवन छह सौ व एक हजार वर्गफीट के, नियम 1500 का

Sanket Shrivastava

Publish: Jun, 14 2018 03:43:03 PM (IST)

Sagar, Madhya Pradesh, India
90 प्रतिशत भवन छह सौ व एक हजार वर्गफीट के, नियम 1500 का

सागर तो ठीक भोपाल-दिल्ली के अधिकारियों की आंखों पर भी बंधी है पट्टी

सागर. महत्वपूर्ण मुदें पर सागर समेत भोपाल व दिल्ली में बैठे अधिकारी कैसे निर्णय लेते हैं, इसकी बड़ी बानगी रूफ वाटर हार्वेस्टिंग के मामले में सामने आई है। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग भोपाल द्वारा जारी आदेश में 140 वर्ग मीटर यानि लगभग 1506 वर्ग फीट या इससे अधिक का प्लॉट होने पर ही रूफ वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना अनिवार्य है। लेकिन हैरानी की बात यह है कि पिछले एक दशक से सागर समेत प्रदेश के अन्य जिलों में 600 से 1000 वर्ग फीट की जगह में ही ९५ प्रतिशत भवन बन रहे हैं। रूफ वाटर हार्वेस्टिंग पर काम करने वाले एक्सपर्ट अरविंद चौकसे ने बताया कि इस गाइडलाइन में संसोधन की जरुरत है। भू-जल स्तर को बढ़ाना है तो फिर सभी भवनों में यह सिस्टम लगाया जाना अनिवार्य करना होगा।
इसलिए बच जाते हैं लोग
राजीव आवास योजना के तहत बाघराज मंदिर के पास १२४८ भवनों का निर्माण कराया गया है लेकिन एक भी भवन में रूफ वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं बनाया गया, क्योंकि सभी भवनों की प्लाट साइज छोटी है। आईएचएसडीपी योजना के भवनों में भी यही अव्यवस्था है। शहर में जितने भी कॉलोनाइजर्स, बिल्डर्स हैं, वे गाइडलाइन की इसी विसंगति का फायदा उठाकर भवनों का निर्माण कर रहे हैं।

- पिछले वर्षों में इस मामले में लापरवाही हुई है लेकिन अब इस पर सख्ती से काम कर रहे हैं। निगम अफसरों को निर्देश दिए हैं कि वे अमानत राशि से रूफ वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनवाने के लिए तैयारी पूरी करें।
अनुराग वर्मा, निगमायुक्त
इस हिसाब से जमा कराई जाती है अमानत राशि भवन का क्षेत्र राशि
१४० से २०० वर्ग मीटर ७०००
२०० से ३०० वर्ग मीटर १००००
३०० से ४०० वर्ग मीटर १२०००
४०० वर्ग मीटर से अधिक १५०००
नोट- वर्ष-२००९ में जारी हुए आदेश के मुताबिक
सिस्टम बनवाने पर अनुमानित लागत
भवन का क्षेत्र लागत
१००० वर्ग फीट १२०००-१३०००
१००० से १५०० १५०००-१८०००
१५०० से २५०० १८०००-२५०००
ये है रूफ वाटर हार्वेस्टिंग का फायदा
- भूमिगत जलस्तर बढ़ता है।
- नई तकनीक से फिल्टर होकर स्वच्छ पानी जमीन के अंदर पहुंचता है।
- बारिश के पानी को बचाने के लिए यह सबसे बेहतर तरीका है।
- एक बार सिस्टम लगने के बाद बाद में कोई खर्च नहीं आता।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned