स्कूल बंद, आंगनबाड़ी में बुलाए जा रहे बच्चे, एक साथ बैठाकर खिला रहे खाना

बच्चों के संक्रमित होने का बना खतरा

By: sachendra tiwari

Published: 06 Apr 2021, 09:57 PM IST

बीना. बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते कक्षा १ से ८ वीं तक के स्कूल बंद हैं, जिससे बच्चों को संक्रमण से बचाया जा सके, लेकिन वहीं दूसरी ओर आंगनबाड़ी केन्द्रों पर हर दिन छोटे-छोटे बच्चों को बुलाया जा रहा है। केन्द्र पर एक साथ बैठाकर नाश्ता, खाना खिलाया जा रहा है।
शहर की अधिकांश आंगनबाड़ी केन्द्र किराए के भवनों में संचालित हो रहे हैं और केन्द्र पर पहुंचे वालों बच्चों को सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए बैठाना संभवन नहीं है। साथ ही बच्चे मास्क भी नहीं लगाए रहते हैं। बच्चों को यहां बैठाकर नाश्ता, खाना खिलाया जा रहा है और इसके परिणाम गंभीर हो सकते हैं। इसके बाद भी अधिकारियों द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। शासन स्तर से जब स्कूल बंद किए गए हैं तो आंगनबाड़ी केन्द्रों को भी बंद किया जाना था। पिछले वर्ष कोरोना काल में बच्चों के घर सूखा पोषण आहार भिजवाने की व्यवस्था थी, जिससे बच्चों को केन्द्र पर न आना पड़े। इस वर्ष २६ जनवरी से यह शुरुआत कर दी गई है।
अन्य ड्यूटी भी करती हैं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा वैक्सीनेशन केन्द्र सहित ऐसी जगह भी ड्यूटी की जाती है, जहां संक्रमित होने का खतरा रहता है, यदि कोई संक्रमित कार्यकर्ता बच्चों के सपंर्क में आ जाए तो कई बच्चे भी संक्रमित हो जाएंगे।
हाथ धुलाने तक की नहीं व्यवस्था
किराए के भवन होने के कारण कई केन्द्रों पर शौचाल नहीं हैं और न ही अच्छे से हाथ धुलाने की व्यवस्था। जबकि छोटे-छोटे बच्चे कई वस्तुओं को छूने के बाद सीधे खाना खाने बैठ जाते हैं और ऐसे में संक्रमण की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है।
जिला कार्यक्रम अधिकारी से करेंगे बात
इस संबंध में जिला कार्यक्रम अधिकारी से बात करेंगे और आंगनबाड़ी खोलने संबंधी शासन स्तर के आदेश की जानकारी लेंगे।
प्रकाश नायक, एसडीएम, बीना

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned