कोरोना के कारण स्कूल बंद तो चलाई जा रही ऑनलाइन क्लास, पढ़ाई के लिए खरीदे जा रहे सबसे ज्यादा मोबाइल

ट्यूशन फीस भी करनी पड़ रही जमा

By: anuj hazari

Published: 20 Nov 2020, 09:07 PM IST

बीना. कुछ समय पहले तक ही घरों में बच्चे मोबाइल चलाते थे तो उन्हें मोबाइल चलाने के लिए मना किया जाता था, लेकिन कोरोना के बाद से जो बदलाव आए हंै उसमें यदि किसी के पास एंड्राइड मोबाइल नहीं है तो उन्हें खरीदकर देना पड़ रहे है। गौरतलब है कि मार्च से कोरोना के कारण स्कूल बंद किए गए थे, जिसके बाद यह उम्मीद थी कि कुछ समय बाद कोरोना की वैक्सीन आ जाएगी और स्कूल खुल जाएंगे। स्कूल न खुलने पर विद्यार्थियों की लगातार पढ़ाई जारी रखने के लिए ऑनलाइन क्लास चलाई जा रही हैं, लेकिन इसके लिए अभिभावकों के लिए अतिरिक्त रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। जिसमें उन्हें अपने बच्चों के लिए एंड्राइड मोबाइल खरीदकर देना पड़ रहा है, ताकि उनकी पढ़ाई का नुकसान न हो। इसके अलावा और कोई विकल्प पढ़ाई कराने के लिए नहीं है। इसलिए प्रतिदिन ऑनलाइन क्लासें मोबाइल के द्वारा विद्यार्थी अटेंड कर रहे हैं। ऑनलाइन क्लास से पढ़ाई का नुकसान तो नहीं हो रहा है, लेकिन इसके एवज में ज्यादा रुपए मोबाइल और उसके रिचार्ज पर खर्च हो रहे हैं। इस स्थिति में सबसे ज्यादा परेशानी उनके लिए हो रही है जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। मोबाइल विक्रेता नवीन चुगानी ने बताया कि प्रतिदिन मोबाइल खदीदने के लिए जो लोग आ रहे हैं उनमें सबसे ज्यादा संख्या उन लोगों की रहती है जो अपने बच्चों को ऑनलाइन क्लास के लिए मोबाइल खरीदते हैं।


ट्यूशन फीस भी करनी पड़ रही जमा


मोबाइल खरीदने व रिचार्ज के बाद लोगों को बच्चों की पढ़ाई के लिए स्कूलों में ट्यूशन फीस भी जमा करनी पड़ रही है। चूंकि शिक्षक प्रतिदिन क्लास ले रहे हैं इसलिए सरकार ने भी ट्यूशन फीस लेने के आदेश दिए है।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned