सर्वे: कोरोना काल में स्कूल बंद होने पढ़ाई को लेकर चिंतित हैं ९७ फीसदी अभिभावक, ८० प्रतिशत बच्चे को स्कूल भेजकर कराना चाहते हैं पढ़ाई

सागर.कोविड १९ की वजह से स्कूल बंद हैं। बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इस दौरान ऑनलाइन कक्षाएं स्कूलों द्वारा संचालित की जा रही हैं, लेकिन संसाधनों के अभाव में मध्यमवर्गी और गरीब परिवारों के बच्चे पढ़ाई ही नहीं कर पा रहे।

By: Atul sharma

Published: 27 Jun 2021, 09:53 PM IST


सागर.कोविड १९ की वजह से स्कूल बंद हैं। बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इस दौरान ऑनलाइन कक्षाएं स्कूलों द्वारा संचालित की जा रही हैं, लेकिन संसाधनों के अभाव में मध्यमवर्गी और गरीब परिवारों के बच्चे पढ़ाई ही नहीं कर पा रहे। ऐसे में अब मप्र शिक्षा बचाओ, बचपन बचाओ मंच ने 1 जुलाई से अभिभावकों की अनुमति के साथ स्कूलें खोलने की मांग की है। इसके लिए संगठन द्वारा प्रदेश स्तरीय सर्वे किया जा रहा है। जिसमें 30 से 35 लाख बच्चों और उनके अभिभावकों से शिक्षा के संबंध में राय जानी जा रही। दो हजार बच्चों पर हुए सर्वे की रिपोर्ट शनिवार को संगठन द्वारा सागर में पत्रकारों के समक्ष प्रस्तुत की गई। इस दौरान सागर से धर्मेंद्र शर्मा, जुगल किशोर उपाध्यक्ष, सुरेंद्र दुबे, उपेंद्र गुप्ता आदि मौजूद थे। वहीं कटनी से मोहनदास नागवानी, जुगल मिश्रा और उमरिया से राजमणि सिंह से सर्वे की रिपोर्ट प्रस्तुत की। इतना ही नहीं मौके पर कुछ स्कूली बच्चे भी बुलाए, जिन्होंने मोबाइल न होने के कारण पढ़ाई न कर पाने की बात कही।
चर्चा के दौरान जो सर्वेप्रस्तुत किया गया उसमें 2219 अभिभावकों के जवाब थे। जिसमें कई चौकाने वाले तथ्य भी सामने आए। जिसमें 97.2 प्रतिशत अभिभावक बच्चों की शिक्षा को लेकर चिंतित हैं। 51 फीसदी बच्चों के पास ऑनलाइन कक्षाओं के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं हैं। 46 फीसदी अभिभावकों का कहना है कि स्कूल बंद होने के बाद भी खर्च में कोई अंतर नहीं आ रहा।

ये हैं सर्वे के 11 सवाल-
1- क्या आप कोरोना काल में अपने बच्चे की शिक्षा को लेकर चिंतित हैं?
97.2 प्रतिशत- हां
2 प्रतिशत- नहीं
0.8 प्रतिशत- पता नहीं

2- गत वर्ष स्कूल बंद होने की स्थिति में क्या आपका बच्चा नियमित पढ़ाई ?
38.2 प्रतिशत- कर रहा है, लेकिन अनिवार्यता से नहीं
32.1 प्रतिशत- नहीं कर रहा
29.1 प्रतिशत- कर रहा है

3- क्या आप मोबाइल या अन्य तकनीकों (कंप्यूटर) के सक्षम जानकार हैं?
43.3 प्रतिशत- हां
31.4 प्रतिशत- थोड़ा बहुत
24.8 प्रतिशत- नहीं


4- क्या आपके घर पर सभी बच्चे को एक साथ पढ़ाई के लिए मोबाइल व कंम्प्यूटर उपलब्ध हैं?
46.8 प्रतिशत- हां
51.1 प्रतिशत- नहीं
2.9 प्रतिशत- सिर्फ एक मोबाइल


5- ऑनलाइन क्लासेज के संबंध में आपकी राय
59.8 प्रतिशत- काम चलाऊ
19.6 प्रतिशत- सशक्त माध्यम
19.2 प्रतिशत- अनुपयोगी


6- क्या आप मानते हैं कि कोरोना काल में बच्चों की शिक्षा का
90.9 प्रतिशत- नुकसान हुआ है
5.6 प्रतिशत-जैसा था वैसा ही है
3.5 प्रतिशत- फायदा हुआ है

7-गत वर्ष आयोजित ऑनलाइन कक्षाओं से आप कितना संतुष्ट हैं?
36.4 प्रतिशत- 50 प्रतिशत से कम
33.1 प्रतिशत- असंतुष्ट
23.6 प्रतिशत- 50-75 प्रतिशत तक
6.9 प्रतिशत-75-100 प्रतिशत तक

8- गत वर्ष (2020-21) में बच्चों के पढऩे के लिए अन्य वर्षों की तुलना में खर्च थे
46.3 प्रतिशत- बराबर
28.5 प्रतिशत- कम
25.2 प्रतिशत- अधिक

9- जिस प्रकार बच्चों को मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराकर आप बाजार, मॉल और शादियों में ले जाते हैं, उसी तरह उन्हें स्कूल भी भेजा जा सकता है?
42.7 प्रतिशत- हां भेज सकते हैं
40.6 प्रतिशत- नहीं भेज सकते
15.8 प्रतिशत- निश्चित गाइड लाइन का पालन होने पर

10- क्या बच्चों को स्कूल कोविड गाइडलाइंस के तहत खोल जाने पर आप बच्चे को स्कूल भेजेंगे?
78.3 प्रतिशत- हां
12.3 प्रतिशत- नहीं
7.7 प्रतिशत- पता नहीं

11- सत्र 2021-22 में आप अपने बच्चे की पढ़ाई कैसे कराना चाहेंगे
80.8 प्रतिशत- स्कूल भेजकर
16.1 प्रतिशत- ऑनलाइन
3.1 प्रतिशत- पता नहीं

Atul sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned