पुलिस के प्रस्ताव को मुख्यालय ने दी प्राथमिक स्वीकृति, नए साल में बढ़ेगी चौकसी, खुलेंगी छह नई चौकियां

पुलिस के प्रस्ताव को मुख्यालय ने दी प्राथमिक स्वीकृति,  नए साल में बढ़ेगी चौकसी, खुलेंगी छह नई चौकियां

Nitin Sadaphal | Publish: Sep, 07 2018 09:36:12 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

मुख्यालय की पहल पर कुछ माह पहले जिला पुलिस द्वारा भोपाल भेजा गया था प्रस्ताव

सागर. जिले की पुलिस व्यवस्था नए साल में और चौकस हो जाएगी। जिला पुलिस की ओर से मुख्यालय को भेजे गए प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए ६ नई पुलिस चौकियां खोलने की प्राथमिक स्वीकृति दे दी गई है। पुलिस मुख्यालय द्वारा विस चुनाव से पहले नवीन चौकियों को सैद्धांतिक स्वीकृति दिए जाने व नए साल में इनके शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही है। मुख्यालय की पहल पर कुछ माह पहले जिला पुलिस द्वारा आइजी के माध्यम से कुछ विस्तृत क्षेत्र वाले पुलिस थानों और कुछ थानों में आबादी के विस्तार व जरूरत के चलते चौकियां खोले जाने का प्रस्ताव भोपाल भेजा गया था।
इस प्रस्ताव में से पुलिस मुख्यालय द्वारा छह नई पुलिस चौकियों को आवश्यकता के अनुरूप प्राथमिक स्वीकृति दी है।
जानकारी के अनुसार विदिशा-सागर जिले को जोडऩे वाले राहतगढ़ थाने की सीमा व एनएच ८६ पर स्थित मीरखेड़ी गांव और कस्बे के झंडा चौक, खुरई कृषि उपज मंडी क्षेत्र, मालथौन के रजवांस, शाहगढ़ के बराज और शहर के गोपालगंज थाना क्षेत्र में अस्पताल सहायता केंद्र को चौकी के रूप में अपग्रेड किए जाएगा।

यह होगा फायदा
नई पुलिस चौकियों के खुलने का लाभ थाने से दूर अंचल में पुलिस की चौकसी व विभिन्न मामलों में जरुरतमंदों तक पुलिस की उपलब्धता सरल होने के रूप में मिलेगा। अभी कई क्षेत्रों में लोगों को पुलिस संबंधी कामों के लिए कई किमी दूर थानों तक जाना पड़ता है। यही नहीं मुख्यालय से स्वीकृति के बाद थाने की सारी औपचारिकताएं भी चौकियों में ही होंगी और लोगों को अनावश्यक दिक्कतों से निजात मिल जाएगी।
पहले किराए के भवनों में होगा संचालन
पुलिस मुख्यालय से सैद्धांतिक स्वीकृति और पुलिस बल की तैनाती के आदेश के बाद उन्हें उचित स्थान पर निजी भवन किराए पर लेकर उनका संचालन शुरू किया जाएगा। दूसरे चरण में चौकियों के लिए भवन की स्वीकृति मिलने पर उनके स्वयं के भवन भी तैयार होंगे। लेकिन इस दौरान लोगों को चौकी पुलिस की व्यवस्था का लाभ मिलने लगेगा। जिले में अभी भी ऐसे अनेक क्षेत्र हैं, जहां पुलिस थाने अथवा चौकियों की दूरी अधिक है। नई चौकियां खुलने के कारण लोगों को सुरक्षा व आपराधिक गतिविधियों को लेकर शिकायत करने में काफी मदद मिलेगी। पुलिस भी आपराधों पर अंकुश लगा सकेगी।
प्राथमिक स्वीकृति मिल गई है
&पुलिस की निगरानी व सुरक्षा अंचल में हर व्यक्ति के बीच तक पहुंचे, इसके लिए नवीन चौकियों का प्रस्ताव भेजा गया था। छह चौकियों को प्राथमिक स्वीकृति मिल गई है।
सत्येन्द्र कुमार शुक्ल, एसपी

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned