लीकेज न सुधरने के डर से अनुसनी कर रहा निगम प्रशासन

Abhilash Kumar Tiwari | Publish: May, 18 2019 09:10:03 AM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

शीतला माता मंदिर के पास आए दिन हो रही दुर्घटनाएं, फिर भी जिम्मेदारों ने नहीं टूट रही नींद, इधर दीनदयाल चौराहे पर एक ही लीकेज को दसवीं बार सुधारने का काम शुरू

 

सागर. शीतला माता मंदिर के पास लीकेज और जर्जर सड़क का खौफ नगर निगम की टीम में एेसा है कि वे इस क्षेत्र के नाम से ही कांप उठते हैं। इस क्षेत्र में बीते करीब ११ महीनों से अव्यवस्था है जिसकी आधा सैकड़ा से ज्यादा लोग अलग-अलग स्तर पर निगम और जिला प्रशासन से शिकायतें कर चुके हैं, फिर भी जिम्मेदार अधिकारियों ने इसके सुधार कार्य की ओर ध्यान नहीं दिया है।

हर दिन हो रहीं दुर्घटनाएं
शीतला माता मंदिर के पास लीकेज होने और बड़े-बड़े गड्ढे होने के कारण यहां पर आए दिन लोग सड़क दुर्घटना का शिकार होते हैं। शुक्रवार को ही मार्ग पर मिट्टी होने के कारण एक ट्रक फिसल गया और फिर वह गड्ढे में फस गया। इसके अलावा यहां पर शाम के समय एक-न-एक दो पहिया वाहन चालक जरूर फिसलकर गिरता है।

पूरे दिन रहती है जाम की स्थिति
जर्जर मार्ग होने के कारण शीतला माता मंदिर के पास से मोतीनगर चौराहे तक चौबीस घंटे ही यातायात जाम की स्थिति बनी रहती है। दोपहर के बाद से शाम तक इस मार्ग से निकलना राहगीरों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होता है। भोपाल जाने के लिए यात्री बसों के साथ भारी वाहनों की भी दिन भी यहां से आवाजाही रहती है जिसके कारण स्थानीय लोग सबसे ज्यादा परेशान होते हैं।

एक साल में दसवीं बार शुरू किया काम
बस स्टैंड स्थित दीनदयाल चौराहा के पास राजघाट परियोजना के पेयजल नेटवर्क में लीकेज निगम प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ है। चौराहे के पास निगम की जलप्रदाय विभाग की टीम ने शुक्रवार को दसवीं बार लीकेज सुधार का कार्य शुरू किया। यहां पर प्रशासन अब तक हजारों रुपए सुधार कार्य के नाम पर मिटा चुका है लेकिन स्थिति आज भी जस की तस है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned