नवागत एसपी सांघी ने अपने बैचमेट आइपीएस शुक्ल से संभाला  कार्यभार

पहले जिले की तासीर समझी फिर अधिकारियों से की अपराधों पर चर्चा

 

By: संजय शर्मा

Published: 19 Jan 2019, 09:07 AM IST

सागर. पुलिस बल थानों के साथ ही सड़कों-बाजारों में भी नजर आए, रात्रि गश्त, थाना क्षेत्र में भ्रमण नियमित हो। थानों में पहुंचे फरियादियों के साथ अच्छा व्यवहार किया जाए और उनकी पूरी बात पुलिसकर्मी सुनें और निष्पक्ष रहकर कार्रवाई की जाए। यह बात नवागत पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने जिले में पुलिस अधिकारी और थाना-चौकी प्रभारियों के साथ शुक्रवार को कंट्रोल रूम में पहली बैठक में औपचारिक मुलाकात के दौरान कही। उन्होंने गत वर्ष थाना स्तर पर लंबित गंभीर अपराध, अंधे कत्ल, लूट के मामलों को लेकर भी जानकारी ली और एेसे प्रकरणों की डायरी थानों से ऑफिस पहुंचाने के निर्देश दिए। एसपी सांघी ने जिले के थाने-चौकी की लोकेशन, क्षेत्र में आपराधिक वारदातों की स्थिति को समझने अधिकारियों से शुक्रवार शाम साढ़े चार से साढ़े छह बजे के बीच करीब दो घंटे चर्चा की। इससे पहले नवागत एसपी ने आइजी सतीश कुमार सक्सेना व डीआइजी आरके जैन से उनके कार्यालय पहुंचकर मुलाकात भी की।

एसपी शुक्ल के साथ पहुंचे ऑफिस, कार्यभार संभाला -

नवागत एसपी अमित सांघी गुरुवार रात को ही सागर आ गए थे। वे रात में मकरोनिया स्थित ऑफिसर्स मैस में विश्राम के बाद शुक्रवार सुबह एसपी सत्येन्द्र कुमार शुक्ल के साथ चर्चा करते हुए ऑफिस पहुंचे। दोनों अधिकारियों ने कुछ देर अकेले में बातचीत की फिर विधिवत रूप से जिले के पुलिस कप्तान के रूप में अमित सांघी ने कार्यभार संभाल लिया। वे स्थानांतरण पर पीटीएस रीवा जा रहे एसपी सत्येन्द्र कुमार शुक्ल के साथ उनके बंगले तक भी गए। नवागत कप्तान सांघी और शुक्रवार तक जिले के पुलिस अधीक्षक रहे सत्येन्द्र कुमार शुक्ल एक बैच के पुलिस अधिकारी हैं और उनके बीच बेहतर तालमेल भी रहा है। उनकी बीच का सामंजस्य भी कार्यभार ग्रहण करने के दौरान साफ नजर आया।

पहले मीडिया से मिले, फिर ली अफसरों की बैठक -

पत्रकारिता की डिग्री हासिल करने वाले एसपी सांघी कम्युनिटी पुलिसिंग के हिमायती रहे हैं। जिला पुलिस की कमान थामने के बाद उन्होंने शाम 4 बजे पहले अपने ऑफिस में मीडियाकर्मियों से मुलाकात की और फिर कंट्रोल रूम पहुंचे। यहां एसपी रामेश्वर सिंह, एएसपी विक्रम सिंह, सीएसपी आरडी भारद्वाज, सीएसपी-मकरोनिया रवि सिंह चौहान, डीएसपी ट्रैफिक संजय खरे के अलावा अनुभागों से आए एसडीओपी अजित पटेल, संतोष डेहरिया व अन्य के साथ ही पुलिस थानों व चौकी प्रभारियों से भी रूबरू हुए। एसपी सांघी ने पहले थानों-चौकियों की स्थिति और आपराधिक तासीर को समझा फिर वर्ष 2018 में दर्ज अंधे कत्ल, लूट, हत्या के लंबित अपराधों को लेकर बात की। उन्होंने थाना प्रभारियों से एेसे प्रकरणों की डायरी पेश करने के भी निर्देश दिए।

गिनाई अपनी प्राथमिकताएं -

एसपी के रूप में कार्य संभालने के बाद सांघी ने औपचारिक मुलाकात के दौरान पुलिस अधिकारियों को अपनी कुछ प्राथमिकताओं से अवगत कराया। उन्होंने कहा पुलिस का मूवमेंट थाना क्षेत्र में नजर आना चाहिए। बाजार-सड़क, चौराहों पर व्यस्ततम समय में लोगों को यह दिखना चाहिए कि पुलिस उनकी मदद से लिए खड़ी है। थाना क्षेत्र में असामाजिक तत्वों, बदमाशों की धरपकड़, उनके विरुद्ध प्रतिबंधात्मक कार्रवाई के निर्देश भी नवागत एसपी ने दिए। बैठक लेते हुए एसपी ने कहा कि थाने पर पहुंचने वाले के साथ अच्छा व्यवहार हो, उसकी पूरी बात सुनी जाए और निष्पक्ष कार्रवाई करें ताकि फरियादी संतुष्ट होकर लौटे।

संजय शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned