शरण में आए भक्त के सारे दु:खों को हर लेते हैं प्रभु

श्रीमदभागवत कथा

बीना. जीव को अपना दु:ख संसार के सामने नहीं केवल प्रभु के सामने ही प्रकट करना चाहिए। प्रभु पालनहार है वे शरण में आए भक्त के सारे दु:खों को हर लेते हैं। यह बात जवाहर वार्ड में चल रही श्रीमद भागवत कथा सुनाते हुए कथाव्यास पं. भगवतप्रसाद तिवारी ने कही।
उन्होंने कहा कि भगवान के परम भक्त प्रहलाद जिसे पिता के द्वारा भयंकर कष्ट दिए गए, तरह-तरह की यातनाएं दी गईं, लेकिन प्रहलाद हर जगह प्रभु के ही दर्शन करते थे इसलिए उन्हें कहीं भी किसी प्रकार की पीड़ा का एहसास नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि जीव को किसी की निंदा स्तुति करने की बजाय भगवान की ही चर्चा करनी और सुननी चाहिए। प्रभु चरित्र को श्रवण करने, भगवान का चिंतन करने से प्रभु की कृपा निश्चित रुप से प्राप्त होती है। कथा के चौथे दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्व धूमधाम से मनाया गया। श्रद्धालुओं ने भजनों पर नृत्य किया और चारों ओर गूंज उठा नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की। आज भगवान गिरिराज की पूजन कर छप्पन भोग लगाए जाएंगे। कथा सुनने बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।

sachendra tiwari
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned