प्रबंधक ने माना, स्वीकृति से पहले ही गंजबासौदा भेज दी थीं लड़कियां

सेवाधाम आश्रम का मामला...

सागर. सेंट फ्रांसिस सोसायटी द्वारा संचालित श्यामपुरा स्थित सेवाधाम आश्रम में प्रवेश लेने वाली चार लड़कियों को नियम विरुद्ध जिले से बाहर भेजने के मामले में एक और खुलासा हुआ है। सेवाधाम की जांच करने विधानसभा द्वारा गठित कमेटी के सदस्यों ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मामले में सुनवाई की। जिसमें सेवाधाम आश्रम के वर्तमान प्रबंधक फादर आंटो ने स्वयं यह बात स्वीकार की है कि गंजबासौदा में बच्चियां अनुमति के पहले से ही पढ़ रहीं थी। आंटो का कहना था कि मार्च व अप्रैल २०१६ में उन्होंने सीडब्लूसी (बाल कल्याण समिति) को केवल इसकी सूचना दी थी। जबकि इसके पहले तक संस्था का कहना था कि उन्होंने अनुमति लेकर ही बच्चियों को गंजबासौदा भेजा गया था। सुनवाई करते हुए कमेटी ने यह माना है कि संस्था ने बिना किसी सक्षम अधिकारी की स्वीकृति के लड़कियों को जिले से बाहर भेजा है। साथ ही जांच कमेटी ने सीडब्लूसी व महिला सशक्तिकरण के अधिकारियों की सांठगांठ होने की बात कही है। विधायकों का आरोप है कि सांठगांठ करके ही संस्था की गलतियों को छिपाया जा रहा है और उसका नियम विरुद्ध कार्यों में भी सहयोग किया जा रहा है। गुरुवार को हुई बैठक में नरयावली विधायक प्रदीप लारिया, नगर विधायक शैलेंद्र जैन, एडीएम प्रभा श्रीवास्तव, डीपीओ महिला एवं बाल विकास प्रदीप राय थे।
कमेटी ने डीपीओ से अगली बैठक में मांगी जानकारी
कमेटी ने डीपीओ से आगामी बैठक में निम्न जानकारी मांगी है। इसमें लड़कियां सेवाधाम आश्रम में कब
आई, गंजबासौदा कब भेजीं, अधिकारियों से अनुमति ली या नहीं, जिले से बाहर भेजने की प्रक्रिया क्या है, लड़कियों पर हुए व्यय की जानकारी आदि शामिल हैं।
यह था मामला
सेवाधाम आश्रम में अलग-अलग सालों में प्रवेश लेने वाली चार लड़कियों को आश्रम द्वारा पढ़ाई के लिए विदिशा जिले के गंजबासौदा की भारत माता स्कूल में पढ़ाया जा रहा है। जबकि संस्था से बाहर नहीं भेजा जा सकता है। यदि किसी विशेष परिस्थिति में एेसा किया जाता है तो समक्ष अधिकारी की अनुमति लेना जरूरी होता है। लेकिन संस्था ने अनुमति लेना तो दूर हालही में हुई जांच के दौरान भी उक्त मामला छिपाया। इसे पत्रिका ने उजागर किया था। विधानसभा द्वारा गठित कमेटी मामले की जांच कर रही है।

मदन गोपाल तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned