ऐसे होता था हर वर्ष फर्जीवाड़ा, जांच हुई तो हकीकत आई सामने

समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए हुए पंजीयनों में आया फर्जीवाड़ा सामने

By: anuj hazari

Published: 13 Mar 2018, 09:00 AM IST

बीना. समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए किसानों द्वारा कराए गए पंजीयन में हुए फर्जीवाड़े का सच सत्यापन के बाद सामने आ गया है। जिसमें 976 हेक्टेयर गेहूं का रकबा बढ़ाकर लिखा गया था। अब इस मामले में कलेक्टर द्वारा कार्रवाईकी जानी है।
समर्थन मूल्य का लाभ लेने के लिए हर वर्ष पंजीयनों में फर्जीवाड़ा कर गेहूं का रकबा बढ़ा दिया जाता था और सस्ते दामों पर गेहूं खरीदकर समर्थन मूल्य केन्द्रों पर बेचा जाता था, लेकिन इस बार यह फर्जीवाड़ा सामने आ गया है। राजस्व विभाग द्वारा किए गए सत्यापन में चौकने वाला आंकड़ा सामने आया है, जिसमें 976 हेक्टयर रकबा ज्यादा चढ़ा दिया गया था। इस फर्जीवाड़े में ऑपरेटरों और समिति सहायक प्रबंधकों की गलती सामने आई है। सत्यापन के बाद पूरी रिपोर्ट कलेक्टर की यहां भेजी गईहै और कार्रवाईकलेक्टर द्वारा की जाएगी।
कुछ पंजीयनों में था संदेह
कुछ पंजीयनों में संदेह के बाद उन पंजीयनों का सत्यापन कराया गया। जिसमें दस हेक्टेयर से ज्यादा का रकबा दर्जकराने वाले किसान और एक खाते में एक से ज्यादा किसान वाले पंजीयन चैक किए गए हैं। जिसमें यह सामने आया कि ऑपरेटरों ने पटवारी रिपोर्ट पर ध्यान न देते हुए अन्य फसलों की जगह गेहूं का रकबा दर्ज कर दिया है।एक पटवारी द्वारा भी इस कार्य में लापरवाही की गई थी, जिससे उसे निलंबित किया जा रहा है। सबसे ज्यादा अंतर भानगढ़, पुरैना, पिपरासर समिति में मिला है।
हटवाया जा रहा है ज्यादा रकबा
पंजीयनों में जो गलत रकबा चढ़ाया गया है उसे हटवाकर सही कराया जा रहा है। साथ ही सत्यापन की रिपोर्ट कलेक्टर को भेजी गई है और आगे की कार्रवाईकलेक्टर द्वारा की जाएगी।
डीपी द्विवेदी, एसडीएम, बीना
किस समिति में कितना अंतर
समिति दर्ज रकवा अंतर
01. सहकारी समिति पुरैना 270.45 205.64
02. सहकारी समिति सेमरखेड़ी 87.19 54.03
03. सहकारी समिति भानगढ़ 545.45 350.07
04. सहकारी समिति पिपरासर 279.98 195.91
05. विपणन समिति बीना 32.70 28.10
06. सहकारी समिति सतौरिया 29.52 19.88
07. सहकारी समिति गढ़ा पड़रिया 84.24 47.31
08. सहाकारी समिति मंडीबामोरा 92.05 75.34
(सभी आंकड़े हेक्टेयर में)

anuj hazari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned