टैंकर चालक ने बाइक में मारी टक्कर, दो नाबालिग की मौत, पढ़ें खबर

किर्रोद गांव के पास की घटना, परिजनों ने लगाया जाम, मुआवजे की मांग

By: anuj hazari

Published: 27 Jul 2020, 10:05 PM IST

बीना. बीना से इलाज कराकर घर जा रहे दो बाइक सवारों को गैस टैंकर चालक ने पीछे से टक्कर मार दी, जिनके रोड पर गिरने के बाद उनके ऊपर टैंकर चढ़ गया, जिससे दोनों की मौत हो गई। मौके से टैंकर चालक भाग निकला। घटना किर्रोद गांव के पास हुई। घटना की सूचना मिलते ही मृतक के परिजनों सहित गांव के लोगों ने रोड पर जाम लगा दिया और मुआवजा की मांग की। जानकारी के अनुसार भगवान सिंह पिता मोहन सिंह बंजारा (14), महेन्द्र पिता ऊदा बंजारा (15) निवासी बेरखेड़ी टांड़ा सोमवार की दोपहर करीब साढ़े तीन बजे गांव की ओर जा रहे थे। तभी किर्रोद के पास रिफाइनरी की ओर जा रहे टैंकर ने पीछे टक्कर मार दी, जिससे दोनों युवक रोड पर गिर गए और टैंकर की चपेट में दोनों आ गए और गंभीर चोटें आई थीं। हादसे की सूचना किर्रोद सरपंच रिंकू ठाकुर ने डायल 100 को सूचना दी और मौके पर प्रधान आरक्षक मोहन कुशवाहा, आरक्षक दीपक शुक्ला, पायलट इमरत सेन पहुंचे। घायल महेन्द्र को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं भगवान सिंह की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई थी।
रिफाइनरी के गेट पर किया प्रदर्शन, लगाया जाम
मृतक के परिजनों और ग्रामीणों ने पहले रिफाइनरी के गेट नंबर तीन पर प्रदर्शन किया और समझाइश देकर वहां से हटाया गया। इसके बाद सभी ने किर्रोद के पास जाम लगा दिया जो करीब चार घंटे तक लगाए रखा। कुछ देर बाद मौके पर तहसीलदार संजय जैन, नायब तहसीलदार संगीता सिंह पहुंची, जिन्होंने ग्रामीणों को उचित कार्रवाई और मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया, लेकिन ग्रामीण रिफाइनरी प्रबंधन को मौके पर आने की बात को लेकर अड़े रहे। इसके कुछ देर बाद विधायक महेश राय, पूर्व जनपद अध्यक्ष इंदरसिंह ठाकुर मौके पर पहुंचे जिन्होंने ग्रामीणों को उचित मुआवजा दिलाने की बात कही। ग्रामीण दोनों मृतकों के परिजनों को 15-15 लाख रुपए देने की बात पर अड़े थे।
ग्रामीणों ने कहा रिफाइनरी पहुंचकर लगा देंगे टैंकरों में आग
करीब चार घंटे बाद भी रिफाइनरी प्रबंधन की ओर से कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा तो ग्रामीण रिफाइनरी की तरफ कूच कर गए और रिफाइनरी पहुंचकर गेट नंबर तीन पर खड़े होने वाले गैस टैंकरों में आग लगाने की बात कहते आगे चले गए। घटना स्थल से करीब एक किलोमीटर आगे निकलने के बाद इस संबंध में एसडीएम अमृता सिंह, एसडीओपी डीबीएस चौहान को जानकारी दी गई। इसके बाद उन्होंने ग्रामीणों को रास्ते में ही रोककर प्रबंधन से बात कर उचित मुआवजा का आश्वासन दिया। ग्रामीणों को रिफाइनरी की ओर आने की जानकारी लगते ही रिफाइनरी के अधिकारियों में हड़कंप मच गया। इसके बाद प्रबंधन ने तत्काल 50-50 हजार रुपए देने की बात कही और बीमा क्लेम दिलाने का आश्वासन दिया तब कहीं जाकर ग्रामीण माने। वहीं शासन ने भी 4-4 लाख रुपए की राशि जल्द दिलाने की बात कही।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned