मंदिरों के पट रहे बंद, घरों में की देवी आराधना

नवरात्रि पर मंदिरों में नहीं प्रवेश की अनुमति

बीना. पूरे देश में कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन होने के बाद मंदिरों में नवरात्रि पर देवी मंदिरों में भक्तों को जाने की अनुमति नहीं दी। इसके कारण लोगों को घरों में परिवार के साथ ही पूजा करनी पड़ी। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि इस बार जब बाहर जाने की अनुमति नहीं रही तो घरों में आराम से देवी जी की पूजा करने का मौका मिला। तो वहीं देवी दर्शन नहीं कर पाने के कारण लोगों को देवी भक्ति अपूर्ण लग रही है।
बुधवार से चैत्र नवरात्रि शुरू हो गई है, जिसमें सुबह से लोगों ने उठकर देवी उपासन की तो वहीं कुछ लोग मंदिरों में अनुमति न होने के बाद भी जल चढ़ाने के लिए जाने का प्रयास करते रहे। इस ओर पुलिस ने भी शक्ति बरतने में कोई कमी नहीं छोड़ी। देवी मंदिरों पर पहले जहां लोगों की सुरक्षा के लिए पुलिस बल तैनात किया जाता था तो वहीं दूसरी ओर इस वर्ष पुलिस केवल इसलिए पहरा देती रही कि लोग दर्शन करने के लिए मंदिरों में भीड़ जमा नहीं करें।
सभी मंदिरों में केवल पुजारियों ने ही की किया पूजन
शहर के प्रसिद्ध मां जागेश्वरी मंदिर, कुटी मंदिर, बड़ी माता मंदिर, कटरा मंदिर, स्टेशन रोड स्थित देवी मंदिर, स्टेशन परिसर में स्थित देवी मंदिर, कृषि उपज मंडी स्थित देवी मंदिर पर सुबह केवल पुजारियों ने ही पूजा की। हालांकि कुछ लोग सुबह से छिपकर मां दुर्गा मंदिरों पर जल चढ़ाने के लिए पहुंचे।
पहली बार मिला परिवार के साथ पूजा करने का मौका
कई घरों में लोगों ने परिवार के साथ कई वर्षों बाद पहले दिन ही देवी मां की आराधना एक साथ की। इंदिरा गांधी वार्ड निवासी वरूण मुदगल ने बताया कि बाहर रहकर नौकरी करने के कारण घर में नवरात्रि की पूजा एक साथ नहीं कर पाते थे। केवल महाअष्टमी पर ही पूजा में शामिल होने का मौका मिलता था, लेकिन इस वर्ष पूरे परिवार के साथ नवरात्रि में देवी आराधना परिवार के साथ शुरू की।

anuj hazari Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned