ठंडी हवाओं से कंपकंपाए लोग, दिनभर छाए रहे आसमान पर बादल

फसलों पर मंडराने लगा खतरा

By: sachendra tiwari

Published: 30 Dec 2020, 10:11 PM IST

बीना. मौसम ने फिर अचानक करवट ली है और कड़ाके की ठंड ने लोगों को कंपकंपा दिया है। दिन में लोगों को धूप से राहत मिल जाती थी, लेकिन आसमान पर छाए बदलों के कारण दिन में भी राहत नहीं मिली। कड़ाके की ठंड से अब फसलों पर भी खतरा मंडराने लगा है।
बुधवार की सुबह कड़ाके की ठंड के साथ हुई। सुबह से ही आसमान पर बादल छाए थे और ठंडी हवाएं दिनभर चलती रही। ठंड से बचने के लिए दिन में लोग गर्म कपड़ा पहने हुए नजर आए और अलाव का सहारा भी लेना पड़ा। शाम ढलते ही सड़कों पर चहल-पहल कम हो गई थी और लो घरों में दुबक गए थे। बुधवार को अधिकतम तापमान 20 डिसे रहा जो पिछले दिनों की अपेक्षा करीब 5 डिग्री कम हो गया है। न्यूनतम तापमान 7 डिसे तक पहुंचा। कड़ाके की ठंड से फसलों पर भी खतरा मंडराने लगा है। आसमान से बादल हटते ही फसलों में तुषार की संभावना बढ़ जाएगी। सबसे ज्यादा खतरा उन फसलों को है जिनपर फूल आ गए हैं। साथ ही सब्जी की फसल भी खराब हो जाएगी। किसानों का कहना कि आसमान पर जब तक बादल है तब तक तुषार नहीं लगेगा। यदि आसमान से बादल हटने के बाद इसी तरह कड़ाके की ठंड पड़ी तो फसलों में तुषार लग जाएगा। तुषार से फसलों को बचाने के लिए किसान सुबह, शाम धुआं करते हैं और स्प्रिंगकलर से हल्की सिंचाई करते हैं।
बारिश से होगा लाभ
किसान बारिश की उम्मीद लगाए हुई हैं, क्योंकि बारिश होने पर अभी सभी फसलों के लिए लाभ होगा। बारिश के बार फसलें लहलहा उठेंगी। सबसे ज्यादा लाभ उन किसानों को होगा जिनके पास सिंचाई के साधन नहीं है। साथ ही बारिश के बाद तुषार लगाने की संभावना भी कम हो जाएगी।

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned