वन अमले को देख ट्रक छोड़कर भागे तस्कर

वन विभाग सुस्त : नौरादेही अभयारण्य में तेंदूपत्ते की कालाबाजारी

By: vishnu soni

Published: 07 Jul 2019, 10:00 AM IST

देवरी कला. नौरादेही अभयारण्य एवं दक्षिण वन मंडल के अंतर्गत देवरी, केसली और गौरझामर रेंज में पिछले दिनों तेंदूपत्ता की खरीदी ठेकेदार ने फड़ लगाकर के माध्यम से की गई थी। जिसमें ठेकेदार ने मजदूरों द्वारा तोड़ी गई तेंदूपत्ता की खरीदी दो-चार दिन को बंद कर दी थी। खुलेआम हुई कार्रवाई पर वन विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की। गांवो में सैकड़ों बोरा तेंदूपत्ता श्रमिकों के घर में रखा हुआ है। जिसे अब ठेकेदार द्वारा कम रेट में खरीदकर अवैध रूप से तस्करी की जा रही है। जो पिछले माह से लगातार पूरे क्षेत्र में हो रही है। पिछले 4 जुलाई को नौरादेही अभ्यारण के अधिकारियों को सूचना मिलने पर दक्षिण वन मंडल के अधिकारियों ने मिलकर खमरिया की ओर से तेंदू पत्ते से भरी आ रहा 410 वाहन एमपी 16 जीए 1117 वाहन को पकड़ा। जिसके आरटीओ रिकॉर्ड में गोकर्ण छतरपुर के नाम पर यह वाहन रजिस्टर्ड है। जिस में अवैध रूप से तेंदू पत्ती के बोरे भरे हुए थे जो तस्करी के लिए जा रही थी। इस मामले में ड्राइवर और कंडक्टर का भागना भी वन विभाग को आरोपों के घेरे में लेता है। उल्लेखनीय है कि देवरी क्षेत्र में तेंदूपत्ता का अवैध कारोबार चरम पर है। क्षेत्र में ट्रक, ट्रैक्टर ट्रॉलियों में अवैध रूप से तेंदूपत्ता की तस्करी आम बात है।
पत्ते से भरे वाहन को जब्त कर लिया है लेकिन वाहन के मालिक का नाम मालूम नहीं है। वन अधिकारियों को वाहन कागज नहीं मिले हैं।
डीआर पल्लवी, वन परिक्षेत्र अधिकारी

vishnu soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned