मार्च २०१८ के बाद से जिला अस्पताल में एक बार भी नहीं हुई रोगी कल्याण समिति की बैठक

मार्च २०१८ के बाद से जिला अस्पताल में एक बार भी नहीं हुई रोगी कल्याण समिति की बैठक

Aakash Tiwari | Updated: 14 Aug 2019, 07:45:38 PM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

-ढेरों प्रस्ताव फाइलों में खा रहे धूल, रोगियों के कल्याण की योजनाएं भी ठंडे बस्ते में

सागर. जिला अस्पताल में रोगी कल्याण समिति की बैठक को लेकर जमकर लापरवाही बरती जा रही है। ऐसे ढेरों प्रस्ताव हैं, जिनकी मंजूरी से अस्पताल की दिशा और दशा बदल सकती है, लेकिन बैठक न होने से इन पर मंजूरी की मोहर नहीं लग पा रही है। मार्च २०१८ के बाद से जिला अस्पताल में रोगी कल्याण समिति की बैठक नहीं हुई है। इधर, अस्पताल को होने वाली आय और व्यय का भी कोई हिसाब-किताब नहीं रखा जा रहा है। प्रबध्ंान द्वारा भी बैठक को लेकर कोई कोशिश नहीं की जा रही है।
अस्पताल परिसर का ड्रेनेज सिस्टम 2 साल से ठप है। यह बात प्रबंधन को भी मालूम है। रोगी कल्याण समिति की बैठक में यह प्रस्ताव लंबे समय से लंबित है। इसके सर्वे को लेकर जिम्मेदारी सौंपी जा चुकी है, लेकिन सर्वे में क्या हुआ, मरम्मत पर कितना खर्च होना है और कौन सी एजेंसी काम करेगी। इस पर कोई निर्णय नहीं हो पा रहा है।

-नहीं दिख रही हरियाली
परिसर में 4 पार्क बनना है, लेकिन अभी तक इसका काम शुरू नहीं हुआ है। प्रायवेट कक्ष के सामने भी खाली पड़ी जगह पर पार्क बनाया जाना था। साथ ही परिसर को समतल करने और गाजर घास की कटाई का काम होना था, लेकिन इनमें से एक भी काम अब तक शुरू नहीं हुआ है। गर्मी का मौसम भी जल्द शुरू होने जा रहा है, लेकिन पार्क डेवलअप न होने से इसका फायदा मरीजों व परिजनों को नहीं मिलेगा।

-मरीज के परिजनों के लिए नहीं व्यवस्था
5 साल पहले परिसर में बनी धर्मशाला का प्रस्ताव भी रोगी कल्याण समिति की बैठक न हो पाने के कारण अटका पड़ा है। बीतें वर्षों में अब तक प्रबंधन इसके लिए एजेंसी तय नहीं कर पाई है। रोटरी क्लब द्वारा आवेदन किया गया था, लेकिन दूसरा कोई आवेदन न होने से इसे निरस्त कर दिया गया। सर्दी के मौसम में परिजनों के लिए अनुकूल यह धर्मशाला महज शोपीस बनकर रह गई है।

यह भी है लंबित कार्य
-अस्पताल में सेंट्रलाइल वाटर सिस्टम नहीं हो पा रहा शुरू।

-दवाओं के सेपरेट स्टोर की भी है सबसे बड़ी परेशानी।
-सुरक्षा, मैनपावर के लिए कलेक्टर रेट पर कर्मचारियों की है तैनाती, एजेंसी नहीं नियुक्त।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned