कम्प्यूटर, टीवी व मोबाइल दे रहा दर्द, काम करना तक नहीं आसान

कम्प्यूटर, टीवी व मोबाइल दे रहा दर्द, काम करना तक नहीं आसान

manish Dubesy | Publish: Sep, 08 2018 05:24:46 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

आज विश्व फिजियोथैरेपी दिवस

फीजियोथेरेपी से दूर कर रहे हैं मर्ज
शहर में रोजाना फिजियोथैरेपी सेंटर पर पहुंचते हैं 300 मरीज
सागर. बदलती जीवनशैली के चलते लोगों में गर्दन में दर्द, कंधे में दर्द, स्लिप डिस्क, स्पोंडिलाइटिस, पीठ व घुटनों का दर्द जैसी समस्याएं देखने को मिल रही हैं। फिजियोथैरेपिस्ट के अनुसार पिछले कुछ सालों में इस तरह के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। आंकड़ों के अनुसार रोजाना लगभग 300 मरीज इलाज कराने पहुंच रहे हैं। इन मरीजों में अधिकतर वे मरीज शामिल हैं, जो लगातार घंटों बैठकर कम्प्यूटर पर काम करते हैं। टीवी देखते हैं या मोबाइल चलाते हैं। यही वजह है कि वे दर्द का शिकार जल्दी हो रही हैं। क्योंकि इन लोगों के पास व्यायाम का भी समय नहीं होता है। बढ़ती मरीजों की संख्या के बावजूद जिला अस्पताल और मेडिकल में इसकी सुविधा नहीं मिल रही है। लोग निजी क्लीनिक में पहुंच रहे हैं। 8 सितंबर विश्व फिजियोथेरेपी डे के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर पत्रिका ने शहर के फिजियोथेरिप्सट से बात करके जाना कि कैसे मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है।
फिजियोथैरेपी अब समझ रहे लोग
डॉ. आशीष मिश्रा ने बताया कि शहर में लोग पहले जहां फिजियोथैरेपी से बिल्कुल अनजान थे। आज शहर में लोग इसकी जरूरत के प्रति जागरूक हो रहे हैं। किसी दर्द का फिजियोथैरेपी से आसानी से इलाज हो जाता है, लेकिन लोग यह सोचते हैं यह थैरेपी कोई भी कर सकता है, ऐसा नहीं है। एक विशेषज्ञ के पास ही इसका इलाज कराया जा सकता है। उन्होंने बताया कि शहर में लगभग ६ प्राइवेट क्लीनिक हैं, जहां रोजना 35 से 50 मरीज आ रहे हैं। लोग की बदलती दिनचर्या के चलते इसकी संख्या बढ़ रही है। मिश्रा ने बताया कि पेरालिसिस के मरीजों की फिजियोथैरेपी द्वारा 100 प्रतिशत रिकवरी हो जाती है।
सुबह उठकर करें एक्सरसाइज
डॉ. कोमल खत्री ने बताया कि अपने व्यस्त दैनिक जीवन में भी कुछ छोटी बातों का ख्याल रखें तो इस तरह की समस्याओं से दूर रह सकते हैं। जैसे सुबह पलंग से उठते समय कमर की एक्सरसाइज और जब आप बैठे हैं तो
घुटने की समय घुटने की एक्सरसाइज कर सकते हैं।
इन बातों का रखें ध्यान
लगातार बैठकर काम न करें। एक-दो घंटे में थोड़ा चलते रहिए।
सोफे पर, कार में या ऑफिस में बैठते समय सही तरीका अपनाएं।
अपनी ऊंचाई के हिसाब से सही कुर्सी का चयन करें।
कार्य करते समय कंप्यूटर की दूरी सही हो।

Ad Block is Banned