scriptट्रैक्टर-ट्रॉली बन रहे हादसों का कारण, अंधेरे में नहीं आते नजर, टकरा रहे वाहन चालक | Patrika News
सागर

ट्रैक्टर-ट्रॉली बन रहे हादसों का कारण, अंधेरे में नहीं आते नजर, टकरा रहे वाहन चालक

ट्रॉली पर रेडियम या रिफ्लेक्टर न लगा होने से सड़क पर दूर से नहीं आती नजर, पास में वाहन पहुंचने पर नहीं हो पाता नियंत्रित और हो जाती है दुर्घटना

सागरJun 25, 2024 / 11:59 am

sachendra tiwari

Tractor-trolley is becoming the cause of accidents

ट्रॉली पर नहीं लगा रेडियम

बीना. ट्रैक्टर-ट्रॉली चालकों की लापरवाही से आए दिन हादसे हो रहे हैं, लेकिन फिर भी सुधार नहीं किया जा रहा है। ट्रॉली के पीछे न तो रिफ्लेक्टर लगाए जाते हैं और न ही रेडियम, जिससे अंधेरे में यह सड़क पर नजर नहीं आते और पीछे से वाहन टकरा जाते हैं।
ट्रैक्टर के पीछे लगी ट्रॉलियों में इंडिकेटर और ब्रेक लाइट नहीं होने के कारण उनके रुकने पर पीछे वाले वाहन चालकों को पता नहीं चलता है और रात के समय हादसा हो जाते हैं। यदि किसान ट्रॉली के पीछे सिर्फ रेडियम लगा लें, तो कुछ हद तक हादसे रुक जाएंगे। रविवार की रात बसाहरी के पास दो बाइक सवार सड़क पर खड़ी ट्रॉली से टकरा गए, क्योंकि ट्रॉली दूर से नजर नहीं आ रही थी। यदि इसपर रेडियम लगा होता, तो हादसा नहीं होता। इस तरह के हादसे आए दिन सामने आते हैं, लेकिन न तो यातायात पुलिस इस ओर ध्यान दे रही और न ही किसान जागरूक हो रहे हैं।
बाहर तक निकले रहते हैं सरिया
ट्रैक्टर-ट्रॉली में सरिया ढोए जाते हैं, जो बाहर तक निकले रहते हैं। सरिया भरने के बाद भी कोई संकेतक ट्रैक्टर चालक नहीं लगाते हैं। पिछले दिनों खिमलासा में एक बाइक चालक टकरा गया था, जिससे उसके चेहरे पर चोट आई थी।
अभियान चलाने की है जरूरत
यदि इस तरह के हादसे रोकना है, तो पुलिस को लगातार अभियान चलाकर किसानों को जागरूक करना होगा, जिससे ट्रॉली के पीछे रेडियम लगाया जा सके। इस कार्य में ज्यादा खर्च भी नहीं आएगा।

Hindi News/ Sagar / ट्रैक्टर-ट्रॉली बन रहे हादसों का कारण, अंधेरे में नहीं आते नजर, टकरा रहे वाहन चालक

ट्रेंडिंग वीडियो