scriptUniforms are used to tighten, stuttering is not a good thing in polici | वर्दी कड़क करने लगाया जाता है कलफ, पुलिसिंग में अकड़ अच्छी बात नहीं- एसपी | Patrika News

वर्दी कड़क करने लगाया जाता है कलफ, पुलिसिंग में अकड़ अच्छी बात नहीं- एसपी

नगर, ग्राम रक्षा समिति प्रशिक्षण शिविर का आयोजन

सागर

Published: November 26, 2021 07:12:45 pm

बीना. जब पुलिस की ट्रेनिंग होती है तो वर्दी पर कलफ लगाया जाता है ताकि वर्दी कड़क बनी रहे, लेकिन आम जीवन में पुलिस में अकड़ हो तो हमारी छवि लोगों में अकड़ वाली बनती है इसलिए अकड़ से बाहर आकर अपनी अच्छी छवि का निर्माण करना है। यह बात सीसीटीवी कंट्रोल रूम प्रांगण में आयोजित नगर, ग्राम रक्षा समिति के प्रशिक्षण शिविर में शामिल हुए एसपी अतुल सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि रक्षा समिति के सदस्यों के पुलिस से जुडऩे के कुछ मूल उद्देश्य हो सकते हंै, जिसमें पुलिस का रुतबा, लोगों में डर या फिर लोगों में यह दिखाने की हम पुलिस से जुड़े हैं, लेकिन सब केवल फिल्मों में ही अच्छा लगता है धरातल पर ऐसा कुछ नहीं है। इसलिए पुलिस से जुड़कर सदस्य अपराधों की रोकथाम के लिए काम करें। उन्होंने वर्ष 2000 के पहले से जुड़े समिति सदस्यों से जब यह पूछा कि काम के दौरान सबसे ज्यादा सहयोग किस थानाप्रभारी ने किया तो अधिकांश सदस्यों ने उन थानाप्रभारी के नाम लिए जो तेज तर्रार थे। इसको लेकर एसपी ने कहा कि हमें पुलिस की छवि में सुधार करना है और शिकायत करने के लिए आने वालों से विनम्रता से पेश आना है। शिविर में एसडीओपी उदयभान बागरी, बीना थाना प्रभारी कमल निगवाल, आगासौद थाना प्रभारी रावेन्द्र सिंह बागरी, भानगढ़ थाना प्रभारी लखन डाबर, खिमलासा थानाप्रभारी मीनेश भदौरिया सहित पुलिसकर्मी और नगर व ग्राम रक्षा समिति के सदस्य मौजूद रहे।
किसी भी मामले में न बनें गवाह
एसपी ने रक्षा समितियों के सदस्यों से कहा कि जिन मामलों में पुलिस के लिए कोई गवाह नहीं मिलते हैं उनमें गवाह न बनें। यदि कोई अधिकारी इसके लिए दबाव बनाता है तो इसकी जानकारी दें। क्योंकि पुलिस अधिकारी तो कुछ समय के लिए आते हैं, लेकिन जिसके खिलाफ गवाही दोगे वह हमेशा के लिए रंजिश रखने लगेगा। इसलिए केवल पुलिस को अपराध की सूचना दें। बाकी का काम पुलिस का है।
अच्छे नागरिक योजना का बने हिस्सा
एसपी ने जानकारी देते हुए बताया कि किसी भी हाल में हमें मानवता को नहीं छोडऩा है। सरकार द्वारा चलाई जा रही अच्छे नागरिक योजना का हिस्सा जरूर बनें। यदि दुर्घटना में घायल किसी व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाते हैं तो मेडिकल बोर्ड की अनुशंसा पर शासन की ओर से पांच हजार रुपए इनाम व प्रशंसा पत्र भी दिया जाएगा। पुलिस घायल को अस्पताल में भर्ती कराने पर संबंधित व्यक्ति से कोई पूछताछ नहीं करेगी।
मॉर्डन पुलिस के सामने कई चुनौतियां
मॉर्डन पुलिस के सामने कई चुनौतियां है, जिसमें सबसे बड़ी चुनौती वर्तमान में सायबर क्राइम की है, जिसमें लोगों को फोन या अन्य तरीकों से ठगी का शिकार बनाया जा रहा है। इसके लिए भी लोगों को जागरुक करें यह भी पुलिस के लिए किया जाने वाला बड़ा सहयोग है।
महिला सदस्य ने कहा लोगों से पुलिस करे अच्छा व्यवहार
कार्यक्रम के दौरान महिला सदस्य नंदनी मुड़ोतिया ने कहा कि जो भी व्यक्ति पुलिस से मदद लेने के लिए आता है पुलिस उससे अच्छा व्यवहार करे। उन्हें न्याय दिलाने के लिए काम करें और किसी भी प्रकार की अभद्रता न की जाए।

Uniforms are used to tighten, stuttering is not a good thing in policing - SP
Uniforms are used to tighten, stuttering is not a good thing in policing - SP

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.