scriptअ धिकारी के कक्ष में वीडियो बनाने के मामले में मोबाइल की जांच की तो पुलिस रह गई दंग | Patrika News
सागर

अ धिकारी के कक्ष में वीडियो बनाने के मामले में मोबाइल की जांच की तो पुलिस रह गई दंग

बरोदिया नौनागिर मामले में ज्ञापन देने आया था मृतिका अंजना का भाई 27 दिन बाद हथियार तस्करी का मामला दर्ज सागर. पुलिस अधिकारी के चेंबर में बिना अनुमति वीडियो बनाने वाले युवक पर 22 दिन बाद सिविल लाइन थाना पुलिस ने हथियार तस्करी का मामला दर्ज किया है। आरोपी युवक खुरई विधानसभा के बरोदिया नौनागिर […]

सागरJun 29, 2024 / 12:36 am

नितिन सदाफल

मोबाइल

मोबाइल

बरोदिया नौनागिर मामले में ज्ञापन देने आया था मृतिका अंजना का भाई

27 दिन बाद हथियार तस्करी का मामला दर्ज

सागर. पुलिस अधिकारी के चेंबर में बिना अनुमति वीडियो बनाने वाले युवक पर 22 दिन बाद सिविल लाइन थाना पुलिस ने हथियार तस्करी का मामला दर्ज किया है। आरोपी युवक खुरई विधानसभा के बरोदिया नौनागिर निवासी मृतिका अंजना का भाई विष्णु अहिरवार है। पुलिस का दावा है कि आरोपी का मोबाइल जब्त करने के बाद की गई जांच में हथियार तस्करी से जुड़े साक्ष्य मिले हैं, यही कारण है कि उसने वीडियो 5 जून को बनाया था और सिविल लाइन थाना पुलिस ने उसके खिलाफ मामला 27 जून को दर्ज किया है। कार्रवाई सवालों के घेरे में है, क्योंकि अपराध दर्ज करने वाली सिविल लाइन थाना पुलिस बरोदिया नौनागिर गांव का नाम सुनने के बाद मामले में कुछ भी बताने से बच रही है।
ज्ञापन देने आया था विष्णु

सिविल लाइन थाना में दर्ज एफआईआर में फरियादी प्रधान आरक्षक सुशील मिश्रा हैं। रिपोर्ट में लिखा है कि 5 जून को थाने से रवाना हुआ, इसी दौरान थाना प्रभारी के मौखिक आदेश से पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचा, जहां पर बीना अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने चेंबर में बुलाकर बताया कि बरोदिया नौनागिर निवासी 21 वर्षीय विष्णु पुत्र रघुवीर अहिरवार कुछ लोगों साथ ज्ञापन देने आया था। ज्ञापन के बाद चेंबर में बिना अनुमति के लुका-छिपाकर अधिकारी की बातचीत का वीडियो बनाया है।
मोबाइल से साक्ष्य मिलने का दावा

सिविल लाइन थाना पुलिस ने एफआईआर में बताया है कि विष्णु का मोबाइल चैक करने पर चेंबर में बनाया वीडियो व गैलरी में बहुत सारे हथियारों के फोटो मिले। इसके बाद मोबाइल को जब्त किया गया। पुलिस ने विष्णु को भी हिरासत में लिया और उससे मोबाइल अनलॉक कराकर उसकी सोशल मीडिया की चैटवुड की जांच की, जिसमें हथियार खरीदी, डिलीवरी संबंधी बातचीत का ऑडियो, हथियारों की फोटो, रेट और लोकेशन आदि के मैसेज मिले। जिसके बाद पुलिस ने विष्णु के खिलाफ धारा 25 (1) (ए) आर्म्स एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध करते हुए विवेचना में लिया है।

Hindi News/ Sagar / अ धिकारी के कक्ष में वीडियो बनाने के मामले में मोबाइल की जांच की तो पुलिस रह गई दंग

ट्रेंडिंग वीडियो