MP Elections 2018 महिला कर्मचारियों की लगेगी ड्यूटी, पिंक बूथ भी बनेंगे

MP Elections 2018 महिला कर्मचारियों की लगेगी ड्यूटी, पिंक बूथ भी बनेंगे

Hamid Khan | Publish: Oct, 14 2018 09:38:19 AM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 09:38:20 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

चुनाव की तैयारी : तीन हजार से ज्यादा महिला कर्मचारियों को दिया प्रशिक्षण

सागर. विधानसभा चुनाव में इस बार जिले के आठ विधानसभाओं के मतदान केंद्रों पर मतदान कराने के लिए महिला अधिकारियों व कर्मचारियों की भी ड्यूटी लगाई जाएगी। इसके लिए महिलाओं को चुनावी कार्य का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ज्यादातर महिलाओं की ड्यूटी शहरी क्षेत्र के मतदान केंद्रों में लगाई जाएगी। जिले में कार्यरत राज्य व केंंद्रीय शासकीय विभागों के करीब 21 हजार अधिकारी-कर्मचारियों का डाटाबेस तैयार किया गया है। इसके अलावा महिलाओं को मतदान करने के प्रति जागरूक करने के लिए प्रत्येक विधानसभा में एक पिंक बूथ भी बनाया जा रहा है, जिसमें मतदान दल में सभी महिला कर्मी शामिल होगे। पहले चरण में अब तक महिला पुरुष मिला कर 14 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को सामान्य प्रशिक्षण दिया गया है।
भ्रम का पटाक्षेप
विधानसभा चुनाव में ड्यूटी को लेकर हैरान-परेशान शासकीय कर्मियों में यह असमंजस और भ्रम था कि, इस बार विस चुनाव में महिला कर्मियो की ड्यूटी नहीं लगाई जाएगी। अब इस भ्रम का पटाक्षेप हो गया है। निर्वाचन कार्यालय के सूत्रों के मुताबिक चुनाव में मतदान के लिए बनाए जा रहे पिंक बूथ के अलावा अन्य मतदान केंद्रो पर भी महिला कर्मियों, शिक्षकों की भी ड्यूटी लगाई जाएगी। इसके लिए करीब 3400 महिला कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इन महिला कर्मियों की ड्यूटी अर्बन क्षेत्र के मतदान केंद्रो पर लगेगी। प्रशिक्षण का कार्य अब तक तकरीबन 80 प्रतिशत तक पूरा हो चुका है 15 अक्टूबर तक सौ फीसदी पूण हो जाएगा। महिला मतदाताओं में मतदान के लिए जागरुकता बढ़ाने के लिए इस बार जिले की सभी विधानसभाओं में एक-एक पिंक बूथ बनाया जा
रहा है।
सभी को दिया है प्रशिक्षण
&जिले के करीब 15 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया है। पिंक बूथ के अलावा अन्य शहरी क्षेत्र के मतदान के लिए महिला कर्मचारियों को तैनात करने की योजना है, लेकिन यह आयोग के निर्देश के बाद तय होगा।
वाइपी सिंह, मुख्य प्रशिक्षिक

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned