युवा उत्सव की उमंग, गायन और रंगोली में बिखेरे प्रतिभा के एेसे रंग

युवा उत्सव की उमंग, गायन और रंगोली में बिखेरे प्रतिभा के एेसे रंग

Hamid Khan | Publish: Sep, 07 2018 09:46:27 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

विद्यार्थियों ने अलग-अलग विद्याओं में दिखाया हुनर, गल्र्स डिग्री कॉलेज और आट्र्स एंड कॉमर्स कॉलेज में युवा उत्सव के दौरान हुई कई विद्याओं की स्पर्धाएं

सागर. गल्र्स डिग्री कॉलेज गुरुवार को झमाझम बारिश के बीच गीत, संगीत एवं विभिन्न कलाओं की छठाएं दिनभर बिखरती रहीं। शुभारंभ रंगोली एवं कोलॉज प्रतियोगिता से हुआ और गीत-संगीत की स्वर लहरियों से संपन्न हुआ। शुभारंभ महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. एके पटैरिया एवं युवा उत्सव प्रभारी डॉ. पद्मा आचार्य द्वारा किया गया।
सुबह 8 बजे से छात्राएं रंगोली एवं कोलॉज प्रतियोगिताओं में अपनी श्रेष्ठ प्रस्तुति देने के लिए आतुर दिखीं। जल प्लावन विषय पर आयोजित कोलॉज प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में डॉ. आशा पाराशर, डॉ. मंगला सूद एवं डॉ. मालती दुबे थी। रंगोली प्रतियोगिता का निर्णय डॉ. शक्ति जैन, डॉ. प्रतिमा खरे एवं डॉ. रजनी दुबे ने दिया। रंगों में बिखरा छात्राओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। मंचीय विधाओं के चरण में शास्त्रीय एकल गायन से प्रतियोगिता प्रारंभ हुआ, जिसके उपरांत सुगम एकल गायन प्रतियोगिता हुई। मंचीय विधाओं में शास्त्रीय एकल गायन शास्त्रीय, सुगम गायन, समूह गान भारतीय, एकल गायन पाश्चात्य, समूह गायन पाश्चात्य, एकल वादन पारकुशन, नान पारकुशन की स्पर्धाएं हुई। सभी प्रतियोगिताओं में कन्या महाविद्यालय की छात्राओं ने बड़ी संख्या में उपस्थित होकर प्रतियोगी छात्राओं का उत्साह वर्धन किया एवं अपनी सहभागिता दी।
आज की स्पर्धाएं
7 सितंबर को चित्रकला, क्ले मॉडलिंग, शास्त्रीय एकल नृत्य, समूह लोक नृत्य, एकांकी स्किट और मिमिक्री प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा।
लोकतंत्र की प्रथम आवश्यकता जागरुक मतदाता है
आट्र्स एंड कॉमर्स कॉलेज में युवा उत्सव 2018-19 का शुभारंभ किया गया। पहले दिन भाषण, गायन, एकल गायन शास्त्रीय गायन, सुगम गायन की स्पर्धाएं हुईं। मतदाता जागरुकता के लिए मीडिया विषय पर आयोजित वाद-विवाद प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने रोचक और सारगर्भित तरीके से इस पर अपने विचार रखे। अतिरिक्त संचालक सागर संभाग डॉ. जीएस रोहित ने कहा कि लोकतंत्र की प्रमुख आधारशिला मतदाता है। इसलिए मतदान के लिए युवाओं को जागरूक करने की महती आवश्यकता बताते हुए प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन किया। लोकतंत्र की प्रथम आवश्यकता जागरूक मतदाता है क्योकि वही सही प्रतिनिधि का चुनाव करते हैं।
डॉ. प्रवीण शर्मा युवा उत्सव प्रभारी ने कहा कि इन प्रतियोगिताओं से छात्र-छात्राओं की प्रतिभा विकसित होती है।
मतदान से ही लोकतंत्र जीवित

भाषण प्रतियोगिता में कौशल लोधी ने कहा कि दान हमेशा श्रेष्ठ होता है, इसीलिए मतदान भी श्रेष्ठ प्रतिनिधि को देना चाहिए। सुलेखा पाठक ने कहा कि यदि आप मतदान के लिए नहीं जाएंगे तो फिर लोकतंत्र कैसे जीवित रहेगा। आकाश दुबे ने कहा कि लोकतंत्र यदि शरीर है तो मतदान इसकी आत्मा है। इस अवसर पर प्राध्यापक डॉ. मधु स्थापक, डॉ. रंजना मिश्रा, डॉ. सरोज गुप्ता, डॉ. छाया चौकसे, डॉ. संगीता मुखर्जी, डॉ. संगीता कुंभारे, डॉ. विनय शर्मा, डॉ. जय कुमार सोनी, डॉ. अमर कुमार जैन, सहायक नोडल अधिकारी स्वीप डॉ. भरत शुक्ला, डॉ. अशोक पन्या, डॉ. सत्या सोनी, डॉ. अंकुर गौतम डॉ. प्रमेश गौतम, श्री राजा राम अहिरवार, डॉ. अर्चना यादव, प्राची बारोलिया, डॉ. प्रकाश अहिरवार, डॉ. स्वदीप श्रीवास्तव डॉ. संदीप सबलोक, डॉ. सतोष उपाध्याय, डॉ. रश्मि यादव, डॉ. संदीप तिवारी आदि उपस्थित थेे।

Ad Block is Banned