48 दिन से दारुल उलूम देवबंद में फंसे हैं 2000 देशी-विदेशी छात्र, ईद नजदीक आने पर अब टूट रहा सब्र का बांध

 

  • ईद का त्यौहार नजदीक आता देख छात्र जाना चाहते हैं अपने घर
  • छात्रों को उनके घर भिजवाने के लिए संस्थान प्रशासन से कर रहा बात-चीत
  • संस्थान बंद होने के बावजूद रिजर्वेशन नहीं मिलने से फंसे गए थे छात्र

By: Iftekhar

Published: 10 May 2020, 10:33 AM IST

 

देवबंद. कोरोना महामारी के चलते पूरी दुनिया में इस वायरस से भय का माहौल बना हुआ है। इसी के मद्देनजर देश में भी लॉकडाउन जारी है। आज लोकडाउन को 48वां दिन चल रहा है। इस बीच विश्व विख्यात इस्लामी शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद में भी कई देशों व अलग-अलग राज्यों से पढ़ने के लिए आए छात्र भी संस्थान में ही फंसे हुए हैं। यहां फंसे छात्रों को घर वापस भेजने के लिए दारुल उलूम देवबंद प्रशासन से लगातार बातचीत कर रहा है। हालांकि, अभी तक उन्हें कोई सफलता हाथ नहीं लगी है। इस बीच ईद करीब आने से छात्रों की घर जाने की बेचैनी बढ़ती जा रही है।

यह भी पढ़ें- सपा विधायक के फूफा की कोरोना से मौत, अब तक 13 ने तोड़ा दम, नए 21 मरीजों से आंकड़ा पहुंचा 230

देशभर में कोरोना वायरस फैलने के खतरे को देखते हुए भारत सरकार ने पूरे देश में लाकडाउन लगा रखा है। लाकडाउन एक के वक्त ही प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील की थी कि जो लोग जहां पर हैं, वहीं पर रुक जाएं। उसके बाद लोग जहां थे, वहीं रुक गए। जिस वक्त ये ऐलान किया गया, उस वक्त दारुल उलूम देवबंद में तकरीबन 2000 छात्र हॉस्टल में रहकर पढ़ रहे थे। लिहाजा, इल्म की नगरी देवबंद स्थित विश्व विख्यात शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद में देश-विदेश से शिक्षा ग्रहण करने आए ये छात्र वहीं फंस कर रह गए हैं।

यह भी पढ़ें- दिल्ली—यूपी सील बॉर्डर को पार कर Corona हॉटस्पॉट एरिया में प्रेमिका से मिलना पहुंचा प्रेमी

दरअसल, लॉकडाउन से पहले ही दारुल उलूम देवबंद ने प्रशासन की अपील पर अपने संस्थान में छुट्‌टी घोषित कर दी थी। इसके साथ ही सभी छात्रों को अपने-अपने घरों को जाने को कहा गया था। इस बीच कफी छात्र तो चले गये। मगर कुछ छात्रों को रिजर्वेशन नहीं मिलने की वजह से वे अपने घर नहीं जा सके। इसी बीच लॉकडाउन लागू हो गया तो सभी छात्र संस्थान में ही रुक गए। अब दारुल उलूम देवबंद में लगभग 25 अफगानी छात्र सहित 2000 छात्र रुके हुए हैं। इस संबंध में दारुल उलूम प्रशासन ने पुलिस-प्रशासन से इन छात्रों को उनके घरों तक पहुंचाने की कई बार अपील कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें- Lockdown special: अंग्रेजी शासन काल में हुई थी शादी अब लॉकडाउन में पांच पीढ़ियों के साथ मनाई शादी की 75वी वर्षगांठ

यहां फंसे छात्रों का कहना है कि हमारी सरकार लोगों का हर संभव प्रयास मदद कर उनके घरों तक पहुंचा रही है। मजदूरों के लिए भारत सरकार ने विशेष ट्रेन चलाकर उनको उनके घर तक पहुंचा रही है। वहीं, विदेशों में फंसे लोगों को भी विशेष फ्लाइट से अपने देश लाया जा रहा है। ऐसे में ईद का त्यौहार नजदीक आ रहा है। इसी के चलते हम लोग भी अपने घरों को जाना चाहते हैं। वहीं, इस संबंध में जब दारुल उलूम देवबन्द के जिम्मेदारों से बात की गई तो दारूल उलूम देवबंद के प्रेस प्रवक्ता अशरफ उस्मानी ने बताया कि दारुल उलूम के छात्रों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए प्रशासन से लगातार बातचीत चल रही है। जल्द ही कुछ ना कुछ समाधान हो जाएगा।

Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned