भीम आर्मी के बाद अब इस संगठन से जुड़ रहे दलित युवा, 2019 से पहले हाेगा ये बड़ा काम

shivmani tyagi | Publish: Oct, 14 2018 10:29:49 AM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 10:29:50 AM (IST) Saharanpur, Uttar Pradesh, India

भीम आर्मी का राजनीतिकरण हाेने के बाद अब दलित समाज के पढ़े लिखे युवाआें भीम एकता समिति से जुड़ रहे

सहारनपुर।

अभी तक आपने ''भीम आर्मी'' एकता मिशन का नाम सुना था लेकिन अब 2019 से पहले वेस्ट यूपी में दलित युवाआें का एक आैर बड़ा संगठन सामने आ जा रहा है। इस संगठन का नाम भीम एकता समिति है। यह संगठन पिछले कई महीनाें से पर्दे के पीछे से काम कर रहा था आैर अब गांव देहात में अपने पैर पसार लेने के बाद यह संगठन सामने आ गया है। सहारनपुर में आयाेजित एक पत्रकार वार्ता में इस संगठन के पदाधिकारियाें ने बताया कि उनका संगठन गांव-गांव में पाठशालाएं चला रहा है। इन पाठशालाआें में दलित समाज के गरीब बच्चाें काे निशुल्क पढ़ाया जा रहा है। बता दें कि इस संगठन के पदाधिकिरयाें ने यह भी कहा है कि वह तेजी से गांव-गांव सर्वे करा रहे हैं आैर जल्द ही हरेक गांव में उनकी पाठशालाएं हाेंगी।

यह भी पढ़ेंं साहब ''मां'' का दिल टूट जाएगा बस एक माैका दे दाे, देखिए सेना में भर्ती हाेने काे क्या-क्या जतन कर रहे युवा

भीम आर्मी ने भी चलाई थी पाठशालाएं

यहां यह जान लेना भी जरूरी है कि भीम आर्मी एकता मिशन के पदाधिकारी भी अपनी पहचान इसी कार्य से कराते हैं। भीम आर्मी के पदाधिकारियाें का भी यही कहना है कि उनका संगठन गांव-गांव में पाठशाला चलाता आैर इन पाठशालाआें मे दलित समाज के गरीब बच्चाें काे पढ़ाया जाता है। अब भीम एकता समिति भी यही याेजना लेकर वेस्ट यूपी में सामने आई है। इससे भी अधिक हैरान कर देने वाली बात यह है कि भीम एकता समिति के पदाधिकारियाें ने पत्रकाराें से साफ कह दिया कि वह सहारनपुर के ही कई गांव में गए लेकिन उन्हे कहीं भी भीम आर्मी की पाठशालाएं नहीं मिली। चंदे के पैसे काे लेकर पहले ही भीम आर्मी के पदाधिकारियाें में विवाद चल रहा है तरह के तरह के सवाल खड़े हाे रहे हैं आैर अब एेसे में इस संगठन ने सामने आते ही संगठन के पदाधिकारियाें ने भीम आर्मी की पाठशालाआें पर यह बयान देकर भीम आर्मी की मुश्किलें आैर बढ़ा दी हैं। इस पत्रकार वार्ता में मुख्य रूप से समिति के अध्यक्ष विकास कुमार, मुख्य सलाहकार सतीश गाैतम, महासिचव माेहन सिंह के अलावा सचिन, गाैतम, सतेंद्र लांबा, अमित घड़काैली, श्याम कुमार, आरएस विद्यार्थी, दीपक नेगी, कुलदीप कपिल आदि मुख्य रूप से माैजूद रहे रहे। यह अलग बात है कि भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया ने दावा किया है कि भीम आर्मी की 350 से अधिक पाठशालाएं चल रही हैं। उन्हाेंने यह भी कहा है कि वह भीम एकता समिति नाम के किसी संगठन काे नहीं जानते लेकिन फिर अगर काेई संगठन समाज के लिए काम करता है ताे उसका विराेध नहीं करेंगे लेकिन अगर संगठन पदाधिकारियाें ने यह कहा है कि उन्हे सर्वे में कहीं भीम आर्मी की पाठशालाएं नहीं मिली ताे वह अपने सर्वे में सुधार करें।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned