जनता के धन पर बैठा मोदी का नाग: राजबब्बर

जनता के धन पर बैठा मोदी का नाग: राजबब्बर
raj babbar

कांग्रेस नेता ने पीएम मोदी की तुलना नाग से कर डाली

सहारनपुर। सहारनपुर पहुंचे अभिनेता आैर राज्यसभा सांसद राज बब्बर ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी काे नाग की संज्ञा दी है। उन्हाेंने कहा कि, प्रधान मंत्री नरेंद्र माेदी उस नाग की तरह हैं जाे लाेगाें के धन कलश पर कुंडली मारकर बैठा गया है।

हमारी कमाई पर बैठा नाग

यहां जिलाध्यक्ष शशि वालिया के आवास पर पत्रकाराें से वार्ता करते हुए हुए राज बब्बर ने कहा कि, सहारनपुर गंगा-जमुनी तहजीब का पाेषक हाेने के साथ ही अपने हुनर के बल पर दुनियाभर की जरूरताें काे पूरा करने वाला शहर है। इस पर सहारनपुरवासियाें का शुक्रियादा करते हुए राजबब्बर ने नाेटबंदी के मुद्दे के साथ अपनी बात काे शुरु किया। वह बाेले कि,  नाेटबंदी काे लेकर हालात पूरे देश में बेहद खराब हैं। पूरा मुल्क, हिंदू, मुसलमान, सिख ईसाई, मजदूर, किसान, नाैकरीपेशा आज सभी लाेग अपने ही घर में चाेराें में की तरह रह रहे हैं। अपनी मेहनत की कमाई काे देखकर आज एेसा लगता है जैसे, बचपन में सुना करते थे कि, साहब ये कमाई है ये कमाई का कलश है लेकिन उसके ऊपर नाग बैठा हुआ है। हम जानते थे कि, यह पैसा हमारा है हमारे बुजुर्गाें का है, लेकिन नाग बैठा हुआ है ताे छू नहीं सकते।

उन्होंने कहा कि आज प्रधानमंत्री ने एक एेसा नाग छाेड़ दिया है जाे हमारे धन पर बैठ गया है। हम बैंक में पैसे लेने जाते हैं ताे कभी यह नाग कहता है कि पैसा नहीं है। कभी कहता है कि, दाे हजार से अधिक मत निकालाे, कभी कहता है कि 24 हजार से अधिक नहीं मिलेंगे, कभी कहता है कि, पांच हजार से अधिक जमा नहीं कर सकते कभी कहता है कि, ढाई लाख से अधिक जमा नहीं कर सकते। मेरी समझ में नही आता कि, हमारी मेहनत की कमाई के लिए आज देश में कैसी भ्रष्टाचार की दुकान खाेल ली गई है।

फोब्र्स मैगजीन का दिया उदाहरण

राज बब्बर ने यहां फोब्र्स मैगजीन का भी उदाहरण दिया। बाेले कि, 20 दिन पहले दुनिया के जिन 20 प्रभावशाली लाेगाें की सूची इस मैगजीन में जारी हुई थी उनमें नरेंद्र माेदी का भी नाम था। लेकिन दाे दिन पहले इसी मैगजीन के एडिटाेरियल में लिखा गया है कि, नाेटबंदी क्रिमिनल है। समाज के उन लाेगाें के इसका बेहद नुकसान हाेगा जाे खेती-बाड़ी से जुड़े हुए हैं आैर लेबर है। राज बब्बर ने यह भी कहा कि, नाेटबंदी के बाद अब देश में आंखाे की शर्म खत्म हाे जाएगी। पहले लाेग आंखाे की शर्म में उधार दे देते थे आैर घर का राशन भी उधार आ जाता था लेकिन अब एेसा नहीं चलेगा। भारत में 98 प्रतिशत कैश व्यवस्था है। सिर्फ दाे प्रतिशत लाेगाें की राह पर देश काे चलाना देश की जनता के साथ अन्याय है। इससे देश की इकानामी काे धक्का लगेगा। इस माैके पर कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष इमरान मसूद, जिलाध्यक्ष शशी वालिया आैर मुकेश चाैधरी समेत बड़ी संख्या में कांग्रेसी में माैजूद रहे।

नाेटबंदी से देश की अस्मिता काे ठेस पहुंची है

राज बब्बर ने यह भी कहा कि, नाेटबंदी से हमारे देश की अस्मिता काे ठेस पहुंची है। प्रधानमंत्री काे अधिकार नहीं है कि वह नाेटबंदी कर सके आैर रात हाेते ही एेलान कर दें कि देश की जनता के हाथ में जाे अब नहीं चलेगा।

मोदी के दोस्तों को हो रहा लाभ

राज बब्बर ने यह भी कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने अपने चंद दाेस्ताें काे फायदा पहुंचाने के लिए नाेटबंदी का फैसला लिया है। अब देश की जनता पैसा खर्च करेगी आैर इसका सीघा फायदा उन लाेगाें काे पहुंचेगा जाे स्वैपिंग एम्पयार चलाते हैं। अब आप जाे  भी स्वैप करेंगे इस लेनदेन पर 2 से 5 प्रतिशत का कमीशन का खेल चलेगा। एक आेर कमीशन है आैर दूसरी आैर टैक्स है। टैक्स समाज के लिए काम आता है जिससे विकास हाेता है आैर किसानाें की कर्जमाफी कार्याें में यह पैसा काम आता है। अब टैक्स नहीं कमीशन मिलेगा जाे महज चंद लाेगाें की जेब में ही जाएगा। स्वैप इडस्ट्री में आधे से अधिक शेयर विदेशी कंपनियाें के हैं। एेसे में हम ताे यह जानना चाहते हैं कि, यह कैसा मेक इन इंडिया है।

जनता देगी जवाब

राज बब्बर ने यह भी कहा कि, नाेटबंदी के फैसले काे देखकर एेसा लगता है कि, कुछ पुराने पाप किए हाेंगे जाे अब हमारे देश के सामने आ रहे हैं। गांधी ने अपने प्राण भी कीर्तन में दिए थे। हमें नहीं लगता है कि उनसे काेई पाप हुआ हाे। धीरे-धीरे देश बिकने जा रहा है। हमारा देश महज स्वैप करने वाला रह जाएगा। नरेंद्र माेदी यह भूल रहे हैं कि, देश की जनता की उंगली में बहुत ताकत है। जाे जनता उंगली दबाकर उन्हें देश की गद्दी पर बैठा सकती है वही जनता उंगली घुमाकर उन्हे गद्दी से उतार भी सकती है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned