डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के निर्माण का रास्ता साफ, प्रशासन ने 400 बीघा जमीन पर बलपूर्वक लिया कब्जा

किसान नहीं दे रहे थे जमीन पर कब्जा

ढाई साल से रुका हुआ था निर्माण कार्य

By: shivmani tyagi

Updated: 07 Sep 2020, 02:33 PM IST

सहारनपुर। देवबंद सहारनपुर के बीच जमीन के एक छोटे से टुकड़े को लेकर ढाई साल से रुका हुआ डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। रविवार को प्रशासन और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर 400 बीघा जमीन पर कब्जा ले लिया।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में घर की जरूरतें नहीं हुई पूरी तो 49 हजार में बेच दिया दो माह का बेटा

इस दौरान निर्माण करने वाली टीम की निशानदेही पर पिलर भी खड़े कर दिए गए। खेतों में खड़ी किसानों की फसल पर ट्रैक्टर चलवा दिया गया और जेसीबी से रास्ता बना दिया गया । इस दौरान किसानों ने विरोध भी किया लेकिन प्रशासन पूरी तैयारी से मौके पर पहुंचा था और भारी फोर्स लगाई गई थी। इस दौरान फोर्स और किसानों के बीच तनातनी भी हुई।

यह भी पढ़ें: समलैंगिक निकली सौतेली मां, उत्तेजक दवाई देकर तीन बेटियों से बनाती थी संबंध

दिल्ली से सहारनपुर के बीच रेलवे के दोहरीकरण का कार्य चल रहा है। 2011 में यहां जमीनों का अधिग्रहण हुआ था लेकिन लाखनाैर और बेलड़ा जुनरदार व सूभरी के किसान अधिक मुआवजा मांग रहे थे। करीब 90 किसान ऐसे थे जो अपनी जमीन नहीं दे रहे थे। इन किसानों ने साफ तौर पर अपनी जमीन पर कब्जा देने से इनकार कर दिया था। इसको लेकर कई बार किसानों और प्रशासनिक अधिकारियों के बीच मीटिंग भी हुई लेकिन कोई रास्ता नहीं निकला।
यह भी पढ़ें: सहारनपुर: जहरीला हुआ पांवधोई नदी का पानी, हजारों मछलियों की मौत

रविवार को पुलिस प्रशासनिक अधिकारी और डीएफसीसी की टीम पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंची और जबरन कब्जा ले लिया। फोर्स के साथ अधिकारियों ने किसानों की खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चलवा दिया और भूमि को अधिग्रहित करते हुए पिलर लगवा दिए। इस दौरान अधिकारियों ने किसानों से कहा कि वह निर्माण कार्य शुरू होने के साथ ही फसल की कटाई कर सकते हैं। इस दाैरान मुख्य रूप से ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हिमांशु नागपाल एसडीएम सदर अनिल कुमार सिंह प्रोजेक्ट मैनेजर डीएफसीसी कुलदीप सिंह और पुलिस बड़ी संख्या में मौजूद रही।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned