योग दिवस नहीं यहां सड़कों को जाम कर किसान मना रहे हैं 'शोक दिवस'

योग दिवस नहीं यहां सड़कों को जाम कर किसान मना रहे हैं 'शोक दिवस'
farmer protest

किसानों को कहना- सरकार ये योग का ड्रामा करना बंद करें

सहारनपुर. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जब 200 से अधिक देश के लोग योग करने में व्यस्त थे तो इसी दौरान सहारनपुर के किसानों ने सहारनपुर मुजफ्फरनगर हाईवे पर जाम लगा दिया। किसान दरी बिछाकर हाईवे पर ही बैठ गए और साफ कह दिया कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा। 



हाईवे पर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष विनय चौधरी ने कहा कि भारतीय किसान यूनियन से जुड़े सभी किसान राष्ट्रीय नेतृत्व के आह्वान पर पूरे प्रदेश में केन्द्र व प्रदेश सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ सड़कें जाम कर रहे हैं। ओर इसी क्रम में नागल कस्बे में भी सहारनपुर मुजफ्फरनगर मार्ग पर जाम लगाया गया है। 


उन्होंने यह भी बताया कि किसानों ने जिले में अलग-अलग जगहों पर इसी तरह से रोड जाम किए हैं। विनय चौधरी ने किसानों की अपनी टीम के साथ नागल में जाम लगाया तो किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष चौधरी चरण सिंह ने फतेहपुर क्षेत्र में किसानों को साथ लेकर दिल्ली-देहरादून हाईवे पर जाम लगाया। इसी तरह से किसानों ने रामपुर मनिहारान, शाहजहांपुर और नकुड़ समेत अन्य स्थानों पर जाम लगाया गया। 

जाम में फंसे सैकड़ों वाहन

किसानों के जाम में सैकड़ों की संख्या में वाहन फंस गए। इससे सहारनपुर-मुजफ्फरनगर रोड, दिल्ली-देहरादून रोड समेत अन्य रास्तों पर भी लोग बीच रास्ते में फंसे रहे और उन्हें भारी परेशानी उठानी पड़ी। इस पर किसानों का यही कहना है कि सामान्य जन को परेशान करना उनका उद्देश्य नहीं है। लेकिन यह सरकार बिना इस तरह का काम किए किसी बात को नहीं सुनती ऐसे में जाम लगाना किसानों की मजबूरी है। 

9:00 बजे से लगने लगे थे जाम 

भारतीय किसान यूनियन के आह्वान पर सुबह 9:00 बजे से ही जिले में अलग-अलग रास्तों पर जाम लगने शुरु हो गए थे किसानों ने पूरे जिले में अलग-अलग रास्तों को जाम करके अपना विरोध जताया है। 


योग का ड्रामा बंद करे सरकार

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष विनय चौधरी ने नागल में जाम लगाते हुए कहा कि, सरकार योग का ड्रामा बन्द करें किसान तो सुबह ही घर से निकल जाता है और हर रोज सुबह योग करता है किसान तो निरोग है किसानों को योग नहीं बकाया भुगतान और किसानों का ऋण माफ करें ।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned