Breaking: घायल किशोरों को गाड़ी में रखकर अस्पताल ले जाने से मना करने वाले पुलिस वालों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज

एसएसपी के आदेश पर धारा 304ए के तहत लिखी गई रिपोर्ट

By: Iftekhar

Published: 20 Jan 2018, 09:30 PM IST

सहारनपुर. सड़क हादसे में घायल हुए दो युवकों को गाड़ी गंदी होने की दलील देते हुए अस्पताल ले जाने से इनकार करने वाले सभी तीन पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज हो गया है। इनके खिलाफ धारा 304ए के तहत कार्रवाई की गई है। सहारनपुर एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि सस्पेंशन की कार्रवाई के बाद सभी आरोपी पुलिसकर्मियों की विभागीय जांच भी बैठा दी गई है। बता दें कि इन पुलिसकर्मियों की करतूत से पूरे उत्तर प्रदेश पुलिस की छवि खराब हुई थी और सहारनपुर में एकजुट हुए लोगों ने पहले भारत माता चौक पर जाम लगाया और फिर दोनों मृतकों के घर से भारत माता चौक तक कैंडल मार्च निकालकर दोनों किशोरों को श्रद्धांजलि दी गई। यह सभी लोग आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराए जाने की मांग कर रहे थे। लोगों की मांग को देखते हुए सहारनपुर एसएसपी बबलू कुमार के आदेश पर सभी आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई। एसएसपी बबलू कुमार ने इस घटना को बेहद अमानवीय बताते हुए कहा कि इन सभी पुलिसकर्मियों के खिलाफ विभागीय जांच भी बैठा दी गई है।

VIDEO देखने के लिए यहां क्लिक करें

यह हुई थी घटना
दरअसल, गुरुवार देर रात जनकपुरी थाना क्षेत्र के मोहल्ला मंगल नगर में दो किशोरों की बाइक खंबे से टकरा गई थी। इसके बाद दोनों नाले में गिर गए। इस दुर्घटना में दोनों ही बुरी तरह से घायल हो गए थे और उनके सिर से खून बह रहा था। इस दौरान कुछ लोग भी यहां पहुंच गए, उन्होंने यूपी डायल 100 पर कॉल कर घटना की सूचना दी। सूचना मिलते ही कुछ ही देर में यूपी 100 की गाड़ी मौके पर पहुंच गई। इस दौरान लोगों ने पुलिसकर्मियों से मिन्नत की और हाथ जोड़कर उनसे कहा कि बच्चों की जान बच जाएगी इनको अपनी गाड़ी में अस्पताल तक ले चलिए, लेकिन पुलिसकर्मियों ने यह कहते हुए मना कर दिया था कि उनकी गाड़ी गंदी हो जाएगी और रातभर उन्हें गाड़ी में बैठना होता है। इसके बाद टैम्पों से दोनों घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन इससे इन्हें प्राथमिक उपचार मिलने में देरी हो गई थी और दोनों किशोगों की मौत हो गई थी।

पुलिस का यह मानवीय चेहरा उस समय सामने आया, जब मौके पर मौजूद एक व्यक्ति ने इन पुलिसकर्मियों की इस करतूत को अपने मोबाइल कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया था। उसके कुछ ही देर बाद उसने इस वीडियो को वायरल कर दिया। दोनों किशोरों की मौत हो जाने के बाद लोगों का गुस्सा पुलिसकर्मियों पर फूट पड़ा। प्राथमिक तौर पर सहारनपुर पुलिस के अफसरों ने इन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया था, लेकिन शहर के लोग यह मांग कर रहे थे कि सभी आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ FIR दर्ज की जाए और मृतकों के परिजनों को एक करोड़ रुपए की आर्थिक मदद की जाए। इसी मांग को लेकर नुमाइश कैंप के लोगों ने दिन में दोपहर करीब 2:00 बजे भारत माता चौक पर धरना दिया और उसके बाद शाम को 6:00 बजे दोनों मृतकों के घर से भारत माता चौक तक कैंडल मार्च निकाला गया।

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned