मासूम बच्ची ने PM मोदी को लिखी थी चिट्ठी, सीएम योगी उठाएंगे पिता के इलाज का खर्च

Rajkumar Pal

Publish: Sep, 16 2017 02:16:39 (IST) | Updated: Sep, 16 2017 04:18:12 (IST)

Saharanpur, Uttar Pradesh, India
मासूम बच्ची ने PM मोदी को लिखी थी चिट्ठी, सीएम योगी उठाएंगे पिता के इलाज का खर्च

नन्हीं बच्ची ने पिता के इलाज के लिए पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, अब मदद को आगे आए सीएम योगी और मुख्यमंत्री राहत काेष से हाेगा इलाज

सहारनपुर। जहां कुछ वक्त पहले एक नन्हीं बच्ची ने अपने पिता के इलाज के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी काे पत्र लिखकर गुहार लगाई थी, जिसके बाद सरकार ने उस बच्ची की फरियाद सुन ली है। यहां आपको बता दें कि बच्ची की इस आवाज काे पत्रिका उत्तर प्रदेश ने ही पहले उठाया था आैर इसके बाद सरकार ने बच्ची की फरियाद का संज्ञान लेकर उसके पिता के उपचार का जिम्मा लिया है। बच्ची ईशु के पिता का यहां दिल्ली राेड स्थित एक प्राईवेट अस्पताल में उपचार चल रहा है। इस अस्पताल में पहुंचे जिलाधिकारी सहारनपुर ने डॉक्टर काे भराेसा दिलाया है कि अरुण कुमार के इलाज में जितना खर्च आएगा, उसे जिला प्रशासन या मुख्यमंत्री राहत काेष की से दिया जाएगा।

चार दिन पहले गांव वालाें से चंदा लेकर कराया था अस्पताल में भर्ती

नन्हीं बच्ची ईशु ने जब देखा कि उसके पिता की हालत बिगड़ रही है ताे उसने प्रधानमंत्री काे पत्र लिखकर गुहार लगाई। इसी बीच परिवार के लाेगाें ने पूरे गांव से चंदे के रूप में मदद लेकर अरुण कुमार काे यहां दिल्ली राेड स्थित पेगासस हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया। अस्पताल के डॉक्टर राजीव तिवारी ने बताया कि चार दिन पहले परिवार के लाेग अरुण कुमार काे लेकर आए थे। उस समय इस मामले काे काेई नहीं जानता था। उस दाैरान महज पांच हजार रुपये फीस लेकर राेगी काे भर्ती कर लिया गया था। डॉक्टर ने बताया कि अब जिलाधिकारी सहारनपुर ने उन्हें भराेसा दिलाया है कि अरुण के उपचार में जाे खर्च जाएगा। वह प्रशासन आैर मुख्यमंत्री राहत काेष से दिलवाया जाएगा।


अरुण की हालत में अब सुधार

एक साल पहले सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हाेने के बाद काेमा में चले गए अरुण कुमार की हालत में अब सुधार है। पिछले चार दिनाें से अरुण का यहां पेगासस अस्पताल में उपचार चल रहा है आैर डॉक्टर का कहना है कि उनकी हालत में अब सुधार दर्ज हाे रहा है। डॉक्टर यह भी कह रहे हैं कि नन्हीं बच्ची ईशु की इच्छा पूरी हाे इसके लिए वह दिनरात मेहनत कर रहे हैं। डॉक्टर काे उम्मीद है कि अरुण कुमार की उम्र अधिक नहीं है आैर एेसे में राेगी के रिकवर हाेने की उम्मीद है।

 अब तक लग चुके हैं छह लाख रुपये

अस्पताल में माैजूद अरुण कुमार के भाई गाैरव का कहना है कि अब तक अरुण के इलाज में करीब छह लाख रुपये लग चुके हैं। यमुनानगर के बाद चंडीगढ़ पीजीआई में उनका इलाज हुआ है। अब तक उनके इलाज में करीब छह लाख रुपये लग चुके हैं। पूरा परिवार कर्ज में डूब चुका है आैर इतना हाेने के बाद भी उन्हें उम्मीद की काेई किरण नजर नहीं आ रही। अब सरकार ने संज्ञान लिया है ताे उन्हे उम्मीद जगी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned