अफ्रीकी रिजर्व बैंक ने भारतीय मूल के गुप्ता बंधुओं के 13 लाख डॉलर जब्त किए

अफ्रीकी रिजर्व बैंक एसएआरबी ने भ्रष्टाचार के मामले में की कार्रवाई

अक्सर सुर्खियाें में रहते हैं भारतीय मूल के अफ्रीका में बसे गुप्ता बंधु

By: shivmani tyagi

Published: 03 Apr 2021, 06:11 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
सहारनपुर ( Saharanpur ) दक्षिण अफ्रीकी रिजर्व बैंक एसआरबी ने भ्रष्टाचार के मामले में सहारनपुर के गुप्ता बंधुओं ( Gupta Brothers )
की कंपनी सहारा कंप्यूटर्स ( Sahara Computers ) के बैंक खाते से 13 लाख डॉलर से अधिक की धनराशि को जब्त किया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एसएआरबी के डिप्टी गवर्नर कुबेन नायडू ने सरकारी राजपत्र में एक नोटिस प्रकाशित करके यह जानकारी दी।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनाव में दावतों के दाैर ने बढ़ा दिए मुर्गों के दाम, 120 में मिलने वाला मुर्गा 200 के पार

नोटिस में कहा गया है कि सहारा कंप्यूटर्स के नेड बैंक खाते में जमा राशि और उस पर मिले ब्याज को सरकार ने जब्त कर लिया है। जब्त की गई रकम करीब 200 लाख रेंड यानी 13 लाख डॉलर से अधिक है। गुप्ता बंधु अजय अतुल और राजेश मूल रूप से उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के रहने वाले हैं। सहारनपुर में वह एक भव्य मंदिर भी बनवा रहे हैं। वर्ष 1990 के दशक में यह परिवार दक्षिण अफ्रीका चला गया था और उसके बाद से वहीं पर अपना व्यापार शुरु किया। सहारा कंप्यूटर्स इनकी बड़ी आईटी कंपनी थी। पिछले दिनों सहारा कंप्यूटर दक्षिण अफ्रीका की प्रमुख आईटी आपूर्तिकर्ताओं में से एक कंपनी बन गई थी।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी ने अखिलेश और मायावती को छोड़ा पीछे, चार साल में सर्वाधिक खर्च कर गरीबों की मदद की

सहारा कंप्यूटर्स कंपनी के पास ही साउथ अफ्रीका के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम के नामकरण करने का भी अधिकार था। ब्रांड एंबेसडर के रूप में खेल और मनोरंजन की दुनिया के कई प्रमुख चेहरे भी सहारा कंप्यूटर से जुड़े हुए थे। भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरने के बाद से गुप्ता परिवार पर कई कार्यवाही हुई है। गत वर्ष उनके भारत में देहरादून और सहारनपुर स्थित घरों पर भी छापे लगे थे। अब इनका परिवार दुबई में रह रहा है। दक्षिण अफ्रीका की सरकार इनके परिवार से पूछताछ करने के लिए प्रत्यर्पण का प्रयास कर रही है। गुप्ता बंधुओं का कारोबार खनन से लेकर मीडिया हाउस तक फैला हुआ है। वर्ष 2016 में कई अनियमित सौदों की जानकारी सामने आने के बाद अफ्रीका के बैंकों ने उनसे जुड़ी कंपनियों के साथ किसी भी तरह का लेन-देन करने से साफ इनकार कर दिया था

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned