बद्रीनाथ को बताया मुसलमानों का तीर्थ स्थल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी से की वापस दिलाने की मांग

Iftekhar Ahmed

Publish: Nov, 15 2017 03:49:18 (IST)

Saharanpur, Uttar Pradesh, India
बद्रीनाथ को बताया मुसलमानों का तीर्थ स्थल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी से की वापस दिलाने की मांग

मुसलमानों को बद्रीनाथ छोड़ने या गौ-मूत्र पीने की हिन्दूवादी संगठन रक्षा अभियान दल की चेतावनी पर देवबंद के मौलाना ने दिया यह बयान

देवबंद. अयोध्या में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद का मुद्दा अभी सुलझा भी नहीं है कि अब बद्रीनाथ धाम को लेकर एक नई बहस छिड़ गई है। मदरसा दारुल उलूम निश्वा के मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी ने कहा है कि बद्रीनाथ धाम बद्रीनाथ नहीं, वह तो बदरूद्दीन शाह है। उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि यह स्थान कायदे में तो मुसलमानों का धार्मिक स्थल है। इसे मुसलमानों के हवाले कर देना चाहिए, क्योंके यह स्थान बदरूद्दीन शाह है। उलेमा ने यह भी कहा कि नाथ लगाने से कोई हिन्दू नहीं हो जाता।

रातभर SSP काे घुमाते थे थानाध्यक्ष, कप्तान ने ऐसे निकाली हाेशियारी

दरअसल, उत्तराखण्ड के रक्षा अभियान दल ने बद्रीनाथ में रह रहे मुसलमानों को बद्रीनाथ छोड़ने की धमकी देते हुए कहा था कि बद्रीनाथ में रह रहे मुसलमानों के लिए गौ-मूत्र और गंगाजल पीना अनिवार्य किया जाएगा, जो मुसलमान गौ-मूत्र नहीं पीएंगे, उन्हेंन बद्रीनाथ में रहने नहीं दिया जाएगा। इसी पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए उन्होंने ये बातें कही। मौलाना ने कहा कि इस दल के अंदर कोई भी पढ़ा लिखा व्यक्ति नहीं है। दल के पदाधिकारियों को इतिहास पता होता तो ऐसी बात नहीं करते। मौलाना ने कहा कि इन लोगों ने इतिहास नहीं पढ़ा है। इतिहास नहीं मालूम होने की वजह से ये फजूल की बकवासबाजी कर रहे हैं। असली बात तो यह है यह संगठन पहले इतिहास उठाकर देखे। बद्रीनाथ मुसलमानों का धार्मिक स्थल है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से की कार्रवाई की मांग

मौलाना ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मांग की है कि इतिहास के मुताबिक बद्रीनाथ धाम को मुसलमानों के हवाले किया जाए और उसको बद्री शाह का नाम वापस लौटाया जाए।

भैंस ने छात्र को किया घायल, केस दर्ज होने पर मालिक ने पशु पालने से किया तौबा

Molvi Abdullateef

इतना ही नहीं उन्होंने उल्टा सीधा बयान देने वालों के खिलाफ भी उत्तराखंड सरकार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कार्रवाई की मांग की है। उत्तराखंड रक्षा दल की ओर से दी गई धमकी और उस पर देवबंद के उलेमा का यह जवाब, देश में एक नई बहस को जन्म दे सकता है। अभी अयोध्या में राम मंदिर या बाबरी मस्जिद का मामला सुलझा भी नहीं है। इस मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्था कर रहे आध्यात्मिक धर्म गुरु श्री श्री रविशंकर ने बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। ये मामला अभी सुलझेगा या नहीं यह तो नहीं कहा जा सकता है लेकिन, राजनीतिज्ञों को बैठे-बिठाए अब बद्रीनाथ और बदरुद्दीन शाह का नया मामला हाथ लग गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned