scriptPresident of Muslim Women's Association statement about Tabligi Jamaat | मुस्लिम महिला संघ की अध्य्क्ष ने तबलीगी जमात काे बताया देश के लिए खतरा | Patrika News

मुस्लिम महिला संघ की अध्य्क्ष ने तबलीगी जमात काे बताया देश के लिए खतरा

मुस्लिम महिला संघ की अध्य्क्ष और सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता फराह फैज ने तबलीगी जमात को देश के लिए खतरा बताया है। उन्हाेंने यह भी कहा है कि तबलीगी जमात मुस्लिमों काे गुमराह करती है।

सहारनपुर

Published: December 18, 2021 12:03:09 am

सहारनपुर। तबलीगी जमात पर उठे सवालों के बाद अब सहारनपुर में रहने वाली राष्ट्रवादी मुस्लिम महिला संघ की अध्यक्ष और सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता फराह फैज ने भी तबलीगी जमात पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा है कि तबलीगी जमात मुस्लिमों को गुमराह करने का काम करती हैं।
faiz.jpg
frah faiz
फराह फ़ैज़ तब्लीगी जमात को विदेशों से मिलने वाली फंडिंग की जांच कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक भी जा चुकी हैं। फराह ने आरोप लगाया है कि सरकार इन मसलों पर राजनीतिक कारणों के चलते चुप्पी साध लेती है। राष्ट्रवादी मुस्लिम महिला संघ की अध्यक्ष एडवोकेट फराह फैज का साफ कहना है कि, तब्लीगी जमात का उद्देश्य मुसलमानों को गुमराह करना और देश के लिए खतरा पैदा करना है। उन्होंने यह भी कहा है कि यह कट्टरपंथी युवाओं का एक समूह है। ये संगठन सरकार को ब्लैकमेल करने के साथ-साथ इस्लामिक धर्म के प्रचार-प्रसार के नाम पर खाड़ी देशों से भारी मात्रा में धन जुटाता है।
उन्हाेंने देशभर के मुसलमानों से अपील की है कि वह अपने धर्म को कट्टरपंथी चश्मे से ना देखें। मुसलमानों को चाहिए कि कट्टरपंथी चश्मा हटाकर शरीयत को देखें और इन गद्दारों के चंगुल से बाहर निकलकर अपने बच्चों को शिक्षित बनाएं। प्रताप नगर स्थित अपने आवास पर उन्होंने कहा कि, सऊदी अरब जैसे इस्लामिक देश ने तब्लीगी जमात पर प्रतिबंध लगाकर साफ कर दिया है कि ये संस्था आतंकवाद का प्रथम चरण है इससे कम नहीं है। यह संस्थाएं मुसलमानों को गुमराह करके धर्म के नाम पर उनका नाजायज इस्तेमाल करती हैं। मुसलमानों को सऊदी अरब के फैसले का स्वागत करना चाहिए और इन संस्थाओं का बहिष्कार करना चाहिए।
उन्होंने यह भी कहा कि भारत में तब्लीगी जमात और इस जैसी अन्य संस्थाएं- जमीअत उलमा-ए-हिंद, आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड, दारुल उलूम देवबंद आदि सभी का गठन बजी सरकार विरोधी मानसिकता के साथ हुआ। इन सभी का मकसद कौम को बांटकर मुसलमानों को सरकार के विरुद्ध खड़ा करना है। यर संस्थाएं मुसलमानों व सरकार के बीच धर्म के नाम पर खाई खोदती हैं। इन संस्थाओं ने इस्लाम की प्रगतिशील सोच का दरवाजा बंद करके उनका जीवन बदतर बना दिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Uttarakhand Election 2022: रुद्रप्रयाग में अमित शाह ने पूछा, कैसी सरकार चाहिए, विकास या भ्रष्टाचार वाली?शिवराज सरकार के मंत्री ने राष्ट्रपिता को बताया फर्जी पिता, तीन पूर्व पीएम पर भी साधा निशानापूर्व CM अशोक चव्हाण ने किया खुलासा: BJP सांसद मुरली मनोहर जोशी ने रिपोर्ट में खुद कहा 'PM मोदी सेना के साथ खिलवाड़ कर रहे'NeoCov: नियोकोव वायरस के लक्षण, ठीक होने की दर, जानिए सबकुछPandit Jasraj Cultural Foundation: संगीत के क्षेत्र में भी होना चाहिए तकनीक और आईटी का रिवॉल्यूशन: PM ModiCorona: गुजरात में कोरोना को मात दे चुके हैं 10 लाख से अधिक लोगकाशी विश्वनाथ मॉडल पर बनेगा महांकाल कॉरीडोर, सिंहस्थ-28 पर अभी से कामCovid-19 Update: महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,948 नए मामले, 103 मरीजों की मौत हुई।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.