सहारनपुर के शब्बीरपुर में नहीं निकाली गई शोभायात्रा, कई थानों की फोर्स रही तैनात

  • परंपरागत मार्ग से शोभायात्रा निकाले जाने की नहीं मिली अनुमति तो आयोजकों ने शोभायात्रा ही कर दी रद्द
  • प्रशासनिक अधिकारी करते रहे समिति से शाेभायात्रा निकालने की अनुमति लेकिन नहीं निकाली गई शाेभायात्रा

By: shivmani tyagi

Updated: 25 Feb 2021, 04:47 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
सहारनपुर ( saharanpur ) शब्बीरपुर गांव में इस बार भी रविदास जयंती पर शोभायात्रा नहीं निकल सकी। आयोजक परंपरागत मार्ग से शोभा यात्रा निकाले जाने की मांग पर अड़े रहे और प्रशासन ने साफ कह दिया कि निर्धारित रूट पर ही शोभायात्रा निकल सकेगी। इसके बाद आयोजकों ने शोभा यात्रा निकालने से ही इंकार कर दिया।

यह भी पढ़ें: इस बीमारी के चलते डेढ़ साल की मासूम को लगेगा 22 करोड़ का इंजेक्शन, गरीब पिता ने लगाई मदद की गुहार

सहारनपुर के बड़गांव थाना क्षेत्र के गांव शब्बीरपुर में रविदास जयंती पर शोभायात्रा निकाले जाने को लेकर प्रशासन अलर्ट मोड़ पर रहा। एक सप्ताह पहले ही गांव में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया और ग्रामीणों से कह दिया गया था कि निर्धारित मार्ग पर ही शोभायात्रा निकाली जाएगी लेकिन ग्रामीण यानी आयोजक इस बात पर अड़े रहे कि वह परंपरागत मार्ग से ही शोभायात्रा निकलेंगे।

यह भी पढ़ें: एनसीआर से वाहन चोरी कर मेरठ के कबाड़ी बाजार में बेचते थे शातिर

आयोजकों की ओर से एक अर्जी भी न्यायालय में दाखिल की गई। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह के अनुसार अर्जी की सुनवाई के न्यायालय ने भी साफ कह दिया कि शोभायात्रा निर्धारित मार्ग से ही निकाली जाएगी। निर्धारित मार्ग वह मार्ग है जो सहारनपुर में भड़की जातीय हिंसा के बाद प्रशासन ने तय किया था जबकि परंपरागत मार्ग वह मार्ग है जहां से शोभा यात्रा निकालते समय शब्बीरपुर में ठाकुर और दलित पक्षों में आमना-सामना हो गया था।

यह भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने किया दुनिया के पहले अर्हं ध्यान केंद्र का शिलान्यास

एक बार फिर से शब्बीरपुर में मामला ना बढ़ जाए इसी आशंका को देखते हुए प्रशासन ने 25 फरवरी को निर्धारित मार्ग से शोभायात्रा निकालने की अनुमति दी थी। प्रशासन ने साफ कह दिया था कि निर्धारित मार्ग पर ही शोभायात्रा निकलेगी। गांव में किसी तरह का विवाद ना हो और प्रशासन के आदेशों का उल्लंघन ना हो इसको देखते हुए सुबह से ही गांव में फोर्स तैनात कर दिया गया था। सुबह से ही एडीएम प्रशासन एसबी सिंह, एसपी देहात अतुल शर्मा, पुलिस क्षेत्राधिकारी रजनीश उपाध्याय के साथ समेत बड़ी संख्या में फोर्स गांव में तैनात रहा।
प्रशासनिक अधिकारियों ने आयोजकों को काफी समझाया और उनसे कहा कि निर्धारित मार्ग पर शोभा यात्रा निकाले लेकिन आयोजकों ने साफ इंकार कर दिया और कह दिया कि वह शोभायात्रा नहीं निकालेंगे।

यह भी पढ़ें: अडाणी ग्रुप नोएडा में बनाएगा सबसे बड़ा डाटा सेंटर, कागजी कार्रवाई के बाद जल्द दी जाएगी जमीन

डॉक्टर भीमरावअंबेडकर समिति के पदाधिकारी सुदेश ने कहा कि प्रशासन द्वारा निर्धारित मार्ग पर भी राजपूत बिरादरी के लोग रहते हैं जिसे प्रशासन ने अनुसुचित जाति के मकान दर्शाया है। वह परम्परागत मार्ग से ही शोभायात्रा निकालेंगे जब तक उन्हें अनुमति नहीं दी जाती वह शोभायात्रा नहीं निकालेंगे।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned