मुस्‍िलम महिलाओं के हक की लड़ाई लड़ने वाली रेहाना बोली- अब मिली आजादी

रेहाना अदीब ने Teen Talaq पर दिए गए Supreme Court के फैसले का किया स्वागत

By: lokesh verma

Updated: 22 Aug 2017, 03:48 PM IST

Saharanpur News. मुस्लिम महिलाओं की लड़ाई लड़ने वाली और अस्तित्व सामाजिक संगठन की फाउंडर रेहाना अदीब ने Teen Talaq को खत्म किए जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। रेहाना की कहना है वास्तव में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से भारत की महिलाओं को आजादी मिलेगी।

पत्रिका के साथ विशेष बातचीत में रेहाना ने कहा है कि पहले एक जज का फैसला आया था, जिसमें 6 महीने तक यथास्थिति बनाए रखने और फिर 6 महीने बाद कानून बनाए जाने की बात कही गई थी। यहां तक भी हमें मुस्लिम महिलाओं की जीत लग रही थी, लेकिन जब तीन जजों का फैसला आया और तीन जजों ने एक साथ तीन तलाक को असंवैधानिक करार दिया तो तब समझ आ गया कि Supreme Court ने पूरे भारत की मुस्लिम महिलाओं को आजादी दे दी है। रेहाना अदीब बताती हैं कि उनके पास ऐसी दर्जनों महिलाएं हैं जो तीन तलाक का दंश झेल रही हैं। उन महिलाओं के साथ-साथ तीन तलाक के बाद उनके बच्चों की जिंदगी भी नर्क जैसी बन गई है। तलाक के बाद ये महिलाएं दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हो जाती हैं और उनका आत्मविश्वास भी खत्म हो जाता है।

महिलाएं ही समझ सकती है Teen Talaq का दर्द

रेहाना अदीब का यह भी कहना है तीन तलाक का दर्द सिर्फ एक महिला ही समझ सकती है। तीन तलाक के बाद पीड़ित महिला की सामाजिक और मानसिक स्थिति छिन्न हो जाती है। तीन तलाक पीड़िता हर रोज मरती है और उसे दर-दर की ठोकरे खाने के लिए मजबूर होना पड़ता है। आज Supreme Court का जो ऐतिहासिक फैसला आया है उससे तीन तलाक पीड़िताओं को तो राहत मिली है साथ ही मुस्लिम समाज की आने वाली नस्लों की महिलाओं को भी आजादी मिली है। एक डर जो मुस्लिम समाज की हर महिला के मन में रहता है आज वह खत्म होता दिख रहा है और आज मुस्लिम महिलाएं खुद को आजाद महसूस कर रही हैं।

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned