छात्रा को अगवा कर गैंगरेप का मामलाः मैनुअल पुलिसिंग फेल, अब सर्विलांस पर टिकी निगाह

Iftekhar Ahmed

Publish: Sep, 17 2017 10:04:05 (IST)

Saharanpur, Uttar Pradesh, India
छात्रा को अगवा कर गैंगरेप का मामलाः मैनुअल पुलिसिंग फेल, अब सर्विलांस पर टिकी निगाह

साेमवार सुबह पुलिस काे मिल पाएगी माेबाईल की लाेकेशन रिपाेर्ट 

 सहारनपुर. लखनऊ की छात्रा का देहरादून से अपहरण कर उससे मुजफ्फरनगर में गैंगरेप करने के बाद छात्रा काे गागलहेड़ी क्षेत्र में फेंककर फरार हाेने वाले युवकाें का पता लगाने में यूपी पुलिस की मैनुअल पुलिसिंग पूरी तरह से फेल हाे चुकी है। अब पुलिस काे सर्विलांस सिस्टम पर उम्मीद है। सहारनपुर के एक जिम्मेदार पुलिस अफसर ने पूछने पर कहा कि मैनुअल पुलिसिंग के जरिए अभी तक इस मामले की जांच में काेई लीड़ नहीं मिल पाई है। 36 घंटे से भी अधिक समय बीत जाने के बाद पुलिस एक भी कदम नहीं बढ़ा पाई है। एेसे में अब सर्विलांस सिस्टम पर ही पुलिस काे उम्मीद है।

छात्रा को अगवा कर चलती कार में गैंगरेप की वारदात के 36 घंटे बाद भी सहारनपुर पुलिस लाचार

सर्विलांस से तलाशा जाएगा घटनास्थल
यूपी के साथ-साथ उत्तराखंड पुलिस को भी सवालाें के घेरे में खड़ा करने वाली इस घटना का घटनास्थल तक पुलिस पता नहीं लगा पाई है। छात्रा के मुताबिक, उसे बहुत ज्यादा शराब पिला दी गई थी। इसके अलावा रात हाेने की वजह से वह ठीक तरह से उस घटनास्थल काे समझ नहीं पाई, जहां उसके साथ गैंगरेप की घटना काे अंजाम दिया गया। छात्रा से सिर्फ इतना ही आइडिया लगा पाई कि वह घटना स्थल मुजफ्फरनगर जिले में था। पुलिस टीम रविवार काे छात्रा काे साथ लेकर देहरादून से मुजफ्फरनगर तक चक्कर लगाती रही, लेकिन वह घटनास्थल नहीं मिला। अब पुलिस ने पीड़ित छात्रा के माेबाईल नंबर की सर्विलांस डिटेल मंगाई है। रविवार हाेने की वजह से अभी तक पुलिस काे काेई डिटेल नहीं मिल पाई। अब साेमवार सुबह पुलिस काे छात्रा के माेबाईल फाेन की डिटेल मिलेगी। इन डिटेल के आधार पर पुलिस उन युवकाें आैर फिर अॉटाे चालक काे ट्रैस करेगी। पुलिस काे उम्मीद है कि सर्विलांस सिस्टम से उन्हें वारदात काे अंजाम देने वाले दरिंदों तक पहुंचने में मदद मिलेगी। अब देखना यह है कि साेमवार सुबह पुलिस काे जाे डिटेल मिलती है उनके आधार पर पुलिस इस मामले में कितना आगे बढ़ पाती है।

जानिए, किसान नेता स्वः टिकैत की मौत के 6 वर्ष बाद कोर्ट ने क्यों भेजा गैर जमानती वारंट
छात्रा की चीख भी नहीं खाेल पाई यूपी पुलिस की नींद
देहरादून के आईएसबीटी से कार सवार युवकाें ने इस छात्रा का अपहरण किया आैर कार में मारपीट करते हुए शराब पिलाते रहे आैर छात्रा मदद के लिए चिल्लाती रही। देहरादून से लेकर सहारनपुर तक रास्ते में पांच से अधिक डायल 100 की गाड़ियां गश्त कर रही है आैर दस से अधिक पुलिस चेक पाेस्ट के सामने से यह कार गुजरी। छात्रा चिल्लाती रही, लेकिन पुलिस साेती रही आैर पुलिस की नींद नहीं टूटी। छात्रा के मुताबिक, उसका अपहरण आईएसबीटी से ही कर लिया गया था। एेसे में अगर रूट देखा जाए ताे देहरादून से निकलते ही सबसे पहले आशाराेड़ी चेक्स पाेस्ट पड़ता है। इसके बाद यूके पुलिस की माेहंड चाैकी पड़ती है। इससे थाेड़ा आगे चलते ही यूपी की सीमा में बिहारीगढ़ पुलिस चेक पाेस्ट पड़ता है। इसके बाद बिहारीगढ़ थाना आता है। कार आसानी से इन चेकपाेस्ट से हाेते हुए बिहारीगढ़ थाने के सामने से निकल जाती है। इसके बाद सिल्वर कलर की ये स्विफ्ट कार भागूवाला थाने की पुलिस चाैकी काे पार करती है, यहां से आगे बड़कला चेक पाेस्ट के साने से गुजरती है आैर फिर मंडावर चाैकी के बाद पुहाना चेक पाेस्ट से हाेकर निकलती है। इसके बाद रुड़की चेक पाेस्ट आैर मंगलाैर चेकपाेस्ट हाेते हुए कार मुजफ्फरनगर पहुंची। इस तरह यह कार हाईवे पर दाैड़ती रही आैर छात्रा चिल्लाती रही। बावजूद इसके पुलिस की नींद नहीं खुली। इतना ही नहीं, अगले दिन एक बार फिर से यह कार छात्रा काे लेकर सहारनपुर की आेर रवाना हुई आैर गागलहेड़ी थाना क्षेत्र में लड़की काे हाईवे किनार फेंककर भाग जाती है। इतना कुछ हाे जाने के बाद यूपी आैर उत्तराखंड पुलिस इस कार काे कहीं भी चेक नहीं की। फिलहाल, छात्रा से पूछताछ में यह रूट सामने आया है। अब सर्विलांस रिपाेर्ट आने के बाद सही रूट का पता चल पाएगा कि किस-किस समय यह कार किस-किस पुलिस चेकपाेस्ट आैर चाैंकी व थानाें के सामने गुजरी है।

गाजियाबाद में जांच के लिए पहुंचे सीओ के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं ने की बदसलूकी, फाड़ी वर्दी

यह कह रहे हैं पुलिस के मुखिया
सहारनपुर एसएसपी बबलू कुमार का कहना है कि इस मामले में पुलिस की तीन टीमें काम कर रही हैं। साेमवार दाेपहर तक पुलिस काे इस मामले में लीड मिलने की उम्मीद है। जल्द आराेपियाें काे पकड़ लिया जाएगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned