कार के उड़े परखच्चे, सीट बेल्ट आैर एयरबैग ने बचा ली बाप बेटे की जान

सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाइवे पर कार आैर ट्रैक्‍टर-ट्राली की जबरदस्‍त टक्कर

By: lokesh verma

Published: 18 Aug 2017, 09:48 AM IST

सहारनपुर. यह खबर उन लाेगाें के लिए है जाे कार में एयरबैग काे फालतू का खर्च समझते हैं आैर सीट बेल्ट काे केवल पुलिस के डर से ही लगाते हैं। सीट बेल्ट आैर एयर बैग किस तरह जीवन दायिनी हैं। यह अहसास सहारनपुर के रहने वाल डॉक्टर आैर उनके बेटे काे उस समय हुआ जब एयरबैग आैर सीटबेल्ट उन्हें माैत के मुंह से सुरक्षित बाहर ले आए। सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाइवे पर इनकी कार सामने से आ रही ट्रैक्टर-ट्राली से टकरा गई। यह टक्कर इतनी जबरदस्‍त थी कि कार के परखच्चे उड़ गए, लेकिन गनीमत रही कि कार में सवार बाप-बेटे ने सीट बेल्ट लगा रखा थी। दाेनाें काे सीट बेल्ट ने आगे नहीं खिसकने दिया आैर एयर बैग ने इन्हें कवर कर लिया। इस तरह कार के परखच्चे उड़ जाने के बावजूद दाेनाें चमत्कारी ढंग से सुरक्षित बच गए।

दुर्घटना गुरुवार रात की है। सहारनपुर की कपिल विहार कालाेनी में रहने वाले डॉक्टर प्रेम अपने बेटे एडवाेकेट सक्षम के साथ मुजफ्फरनगर से सहारनपुर आ रहे थे। डॉक्टर प्रेम मुजफ्फरनगर के एक हॉस्पिटल में प्रेक्टिस करते हैं। राेजाना यह सहारनपुर से मुजफ्फरनगर आते हैं। गुरुवार रात सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाइवे पर नागल आैर टपरी के बीच इनकी हाेंडा सिटी कार सामने से आ रहे ट्रैक्टर-ट्राली से टकरा गई। सामने से कार की एक साइड ट्राली से भिड़ी ताे ट्राली ने कार काे पीछे तक चीर दिया। कार का पहिया निकलकर दूर जा गिरा आैर बॉनट से लेकर पीछे तक ट्राली ने कार की एक साइड काे पूरी तरह से खत्म कर दिया। इसके बाद बेकाबू हुई कार पहले काफी दूर तक रपटी आैर फिर सड़क किनारे खंबे से जा टकराई। यह दुर्घटना एक तेज धमाके के साथ हुई आैर जिन लाेगाें ने भी दुर्घटना काे देखा आैर सुना उनके मुंह से चीख निकल गई। दुर्घटना के तुंरत बाद कुछ लाेग दाैड़कर इस कार की आेर आए ताे कार की हालत देखकर उन्हें लगा कि इसके अंदर सवार लाेगाें काे घातक चाेटे आई हाेंगी, लेकिन उस समय सभी ने राहत की सांस ली जब उन्हाेंने देखा कि एयरबैग ने कार में सवार दाेनाें लाेगाें काे कवर कर रखा है। इसके बाद राहगीराें ने बाप-बेटे काे कार से बाहर निकाला आैर यह नजारा देख सभी लाेग सीट बेल्ट की अहमियत जान गए।

saharanpur

डॉक्टर बाेले मिला है दूसरा जीवन, सभी काे करेंगे जागरूक

इस दुर्घटना के तुरंत बाद डॉक्टर प्रेम ने पत्रिका रिपाेर्टर के साथ दुर्घटना स्थल पर ही इस भयंकर दुर्घटना का खाैफनाक मंजर साझा करते हुए बताया कि वह हमेशा सीट बेल्ट लगाकर ही कार चलाते हैं। सीट बेल्ट आैर एयरबैग ने उनकी जान बचा ली वर्ना ताे दुर्घटना इतनी भयंकर थी कि कुछ भी हाे सकता था। इस दुर्घटना के बाद डॉक्टर प्रेम ने कहा कि वह ताे पहले से ही सीट बेल्ट लगाते थे, लेकिन अब वह दूसराें काे भी अपने साथ हुई इस दुर्घटना का उदाहरण देते हुए सीट बेल्ट लगाने के लिए जागरूक करेंगे।

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned