scriptUP Assembly Election 2022 Saharanpur Dehat Vidhan Sabha seat | UP Assembly Election 2022 सहारनपुर देहात विधान सभा सीट से दो बार चुनाव लड़ी मायावती | Patrika News

UP Assembly Election 2022 सहारनपुर देहात विधान सभा सीट से दो बार चुनाव लड़ी मायावती

देश की आजादी के बाद यह सीट 6 बार कांग्रेस, 6 बार सपा और पांच बार बसपा के खाते में गई। वर्ष 1993 में सिर्फ एक बार यह सीट गई थी भाजपा के खाते में

सहारनपुर

Updated: January 12, 2022 12:43:09 pm

सहारनपुर। UP Assembly Election 2022 सहारनपुर देहात विधानसभा सीट एक ऐसी सीट है जिसका इतिहास अपने आप में अलग है। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती इस सीट से दो बार चुनाव लड़ी और राष्ट्रीय स्तर पर इस सीट को पहचान दिलाई।
UP Election 2022
up election
इस सीट की एक खास बात यह भी है कि यहां से सर्वाधिक महिलाओं ने चुनाव लड़ा। वर्ष 1957 में इस सीट का गठन हुआ और उस समय इस सीट को हरोड़ा विधानसभा नाम दिया गया। सबसे पहले यह सीट कांग्रेस की झोली में गई और यहां से कांग्रेस प्रत्याशी जय गोपाल ने जीत दर्ज की थी। इस सीट ने महिलाओं को खासा सम्मान दिया। 1967 में शकुंतला देवी इस सीट ऐसी प्रत्याशी थी जो लगातार तीन बार जीती। इसी सीट से विमला राकेश भी चुनाव लड़ी और चार बार विधायक रही। वर्ष 1993 में भाजपा प्रत्याशी मोहर सिंह ने इस सीट पर महिलाओं की लगातार जीत को रोका। महिलाओं के विजय रथ को ब्रेक लगाई और जय गोपाल इस सीट से जीते हालांकि अगले ही चुनाव में बसपा सुप्रीमो मायावती इसी सीट से जीती और उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनी।
वर्ष 2012 में बदल गया इस सीट का नाम
सहारनपुर देहात विधानसभा सीट का नाम वर्ष 2012 में पहली बार बदला। जब वर्ष 2012 में विधानसभाओं का परिसीमन हुआ तो हरोड़ा विधानसभा सीट का नाम बदलकर सहारनपुर देहात हो गया और वर्ष 2012 में जब यहां चुनाव हुए तो जगपाल यहां से विधायक बने। इसके बाद वर्ष 2017 में जब चारों ओर भाजपा की आंधी चल रही थी उस समय यह सीट कांग्रेस के खाते में गई और मसूद अख्तर यहां से विधायक बने।

सहारनपुर देहात सीट 1957 से अब तक

वर्ष 1957 में कांग्रेस के जय गोपाल विधायक बने
1962 में कांग्रेस से फिर जय गोपाल विधायक बने
1967 में कांग्रेस से शकुंतला देवी विधायक बनी
1969 में फिर कांग्रेस से शकुंतला देवी विधायक बनी
1974 में कांग्रेस से फिर शकुंतला देवी विधायक बनी

1977 में सपा से विमला राकेश विधायक बने

1980 में सपा से विमला राकेश विधायक बनी

1985 में सपा से विमला राकेश विधायक बनी
1989 में सपा से विमला राकेश विधायक बनी

1991 में सपा से विमला राकेश विधायक बनी

1993 में भाजपा से मोहर सिंह विधायक बने

1996 में बसपा से मायावती विधायक बने
1998 में उपचुनाव में बसपा से जगपाल सिंह विधायक बने

2002 में बसपा से मायावती विधायक बनी

2003 में सपा से विमला राकेश विधायक बनी

2007 में बसपा से जगपाल सिंह विधायक बने

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

यूपी की हॉट विधानसभा सीट : गुरुओं की विरासत संभालने उतरे योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादवक्या चुनावी रैलियों पर खत्म होंगी पाबंदियां, चुनाव आयोग की अहम बैठक आजदेशभर में नकली नोट व नकली सोना चलाने वाला गिरोह पकड़ा, एक महिला सहित पांच गिरफ्तारदेश विरोधी कंटेंट के खिलाफ सरकार की बड़ी कार्रवाई, 35 यूट्यूब चैनल किए ब्लॉकCo-WIN में बदलाव, अब एक मोबाइल नंबर पर 6 लोग कर सकेंगे रजिस्ट्रेशनसावधान! कोरोना वायरस फैला रहा टीबी, बढ़ती संख्या पर आइसीएमआर ने चेतायाweather forecast news today live updates: दिल्ली-UP समेत उत्तर भारत में शीतलहर, कई राज्यों में आज भी बारिश की सम्भावनाpetrol diesel price today: 79वें दिन पेट्रोल-डीजल के दाम स्थिर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.