scriptहाथरस में जनता की बेवकूफी से हुआ हादसा, हरि भोले बाबा का अनुयाई बोला- बाबा की कोई गलती नहीं | Accident happened due to stupidity of public in Hathras | Patrika News
सम्भल

हाथरस में जनता की बेवकूफी से हुआ हादसा, हरि भोले बाबा का अनुयाई बोला- बाबा की कोई गलती नहीं

Sambhal News: साकार विश्व हरि भोले बाबा का संभल में भी आलीशान आश्रम है। संभल में दो सत्संग स्थल है। आश्रम में बुजुर्ग सेवादार रहता है। वहीं भोले बाबा के अनुयाई ने हाथरस सत्संग में 123 लोगों की मौत के लिए स्वंय मृतकों को जिम्मेदार ठहराकर गैर जिम्मेदार बयान दिया है।

सम्भलJul 05, 2024 / 08:20 pm

Mohd Danish

Accident happened due to stupidity of public in Hathras

Hathras News Update

Hathras News Update: साकार विश्व हरि उर्फ भोले बाबा का आश्रम संभल के चंदौसी रोड पर गांव सराय सिकंदर और गुन्नौर क्षेत्र में है। सेवादार के अनुसार आश्रम के स्वामित्व में करीब सात बीघा जमीन है। जिसमें से ढाई बीघा पर आश्रम बना है। आकर्षक पेंट, लाइटिंग, जगमग गेट से आश्रम आलीशान लगता है। लोग आश्रम पर मत्था टेकते हैं। वहीं अनुयाइयों के अनुसार यहां साकार विश्व हरि का नमन होता है। कोई पैसा चढ़ावा नहीं है। कमेटी आश्रम का संचालन करती है।
अनुयाई सुरेश कुमार ने कहा कि मैं भोले बाबा के आश्रम से 15 साल से जुड़ा हुआ हूं। यहां पूजा पद्धति यह है कि यहां कोई चढ़ावा नहीं होता है। न कोई लेना-देना होता है। यहां सबका भला होता है। लोग इन्हें परमात्मा के रूप में देखते हैं। हमारा जहां भला होगा, हम वहां जाएंगे। हम भोले बाबा को बिल्कुल परमात्मा मानते हैं। यह तो नाम बदलते हुए पहले से चले आ रहे हैं। इस आश्रम में सत्संग भी होता है बाबा भी यहां आए हैं और आते रहते हैं।
हाथरस की घटना पर बोलते हुए सुरेश कुमार ने कहा जनता की बेवकूफी से यह हादसा हुआ। वह भगदड़ में क्यों भाग रहे हैं। बाबा का तो कहना है कि आराम से देखिए, वहीं नमन कीजिए वहीं से भला होगा। जब हम लोग भागेंगे-दौड़ेंगे तो गिरेंगे भी और नुकसान भी होगा। इसमें बाबा की क्या गलती है। इसमें बाबा की कोई जिम्मेदारी नहीं है। मरने वाले अपनी मौत के खुद जिम्मेदार हैं। जो सत्य होगा वह अपने आप सामने आ जाएगा। सीबीआई जांच करो कि बाबा की गलती है या नहीं, यह सीबीआई वालों का काम है। बाबा का काम नहीं है। ऐसा आज पहली बार नहीं हुआ है।
गौरतलब है कि यहां किसी हिंदू देवी-देवता की पूजा नहीं होती है, लोग हरि को ब्रह्मांड का रचयिता बताकर साकार विश्व हरि को नमन करते हैं। 2012 में बने आश्रम में साकार विश्व हरि सिर्फ दो बार आए हैं। करीब दस साल से यहां नहीं आए हैं। वहीं हाथरस की घटना को लेकर अनुयाई मृतकों को ही जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। जो बेहद गैर जिम्मेदाराना है। वहीं इतनी बड़ी घटना के बाद बाबा के सामने आने की जगह फरार होने की बात पर अनुयाइयों का कहना है कि बाबा सामने आएंगे वे स्वंय सामने आएंगे।

Hindi News/ Sambhal / हाथरस में जनता की बेवकूफी से हुआ हादसा, हरि भोले बाबा का अनुयाई बोला- बाबा की कोई गलती नहीं

ट्रेंडिंग वीडियो