गुब्बारों के बाद पाकिस्तान से आया कबूतर, पंखों पर लिखा है ये

यह कबूतर संवेदनशील बमियाल सेक्टर की सीमा पर उड़ रहा था। कबूतर ने बार- बार चक्कर काटे तो बीएसएफ जवानों को शंका हुई।

By: Bhanu Pratap

Published: 26 Sep 2020, 03:31 PM IST

पठानकोट। पंजाब में भारत-पाकिस्तान सीमा से लगा जिला पठानकोट घुसपैठ और तस्करी गतिविधियों की दृष्टि से संवेनशील है। शनिवार को पठानकोट जिल के खोजकीचक गांव में एक कबूतर मिला तो सीमा की सुरक्षा में तैनात सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के अधिकारी सतर्क हो गए। कबूतर मिलने की जांच की जा रही है। दो दिन पहले ही सीमा पर पाकिस्तान से गुब्बारे उड़कर आए थे, जिन्हें भी बीएसएफ जवानों ने फायरिंग से गिरा दिया था।

पंखों पर उर्दू में ‘सियालकोटी फ्लाइंग जिमी ग्रुप’ लिखा है

घटना शनिवार की है। यह कबूतर संवेदनशील बमियाल सेक्टर की सीमा पर उड़ रहा था। कबूतर ने बार- बार चक्कर काटे तो बीएसएफ जवानों को शंका हुई। कबूतर को मारने के स्थान पर खोजकीचक गांव में पकड़ लिया। बीएसएफ के पुलिस अधीक्षक (आपरेशन) हेमपुष्प शर्मा ने बताया कि जांच करने पर पाया गया कि यह पाकिस्तान की तरफ से आया था। कबूतर के पंखों पर उर्दू में ‘सियालकोटी फ्लाइंग जिमी ग्रुप’ लिखा है।

बुधवार को आया था गुब्बारा

इस बीच पाकिस्तान की ओर से बुधवार रात करीब दस बजे आसमान में तीन चमकती चीजें सीमा सुरक्षा बल की टिंडा फारवर्ड पोस्ट की ओर आती दिखाई दीं। सीमा सुरक्षा बल जवानों ने फायरिंग कर उन्हें गिरा दिया। सीमा सुरक्षा बल के जवानों को लगा कि पाकिस्तान की ओर से अधंकार में ड्रोन उड़ाने की कोशिश की जा रही है। फायरिंग के बाद छानबीन में पाया गया कि किसी ने सीमा पार से लाइट लगे गुब्बारे उड़ाए हैं। इसके बाद बीएसएफ और स्थानीय पुलिस ने वीरवार सुबह टिंडा पोस्ट के साथ सीमा पर सटे गांवों में सर्च ऑपरेशन भी चलाया। कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली।

तीसरी बार भेजे गए लाइट लगे गुब्बारे

एक महीने में यह तीसरी घटना है जब पाकिस्तान से गुब्बारे भारतीय सीमा में भेजे गए हैं। सुरक्षा एजेंसियां इन लाइट लगे गुब्बारों और बार-बार सीमा पार से गुब्बारे भेजने की घटनाओं की जांच कर रही हैं। इस बीच शनिवार को कबूतर आने की घटना हो गई।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned