साहब छोटी सी सब्जी की दुकान है आए दिन हटा देते हैं लेकिन बड़े लोगों का कुछ नहीं होता

जनसुनवाई में विकलांग दंपति ने सुनाई अपनी पीड़ा, जिपं सीईओ ने 101 आवेदकों की सुनी समस्याएं

 

By: Ramashanka Sharma

Updated: 27 Nov 2019, 12:41 PM IST

सतना. कलेक्ट्रेट की जनसुनवाई में अपनी विकलांग पत्नी के साथ लगभग घिसटते हुए पहुंचे विकलांग लालमन कुशवाहा ने अपना दुखड़ा जिपं सीईओ ऋजु बाफना को सुनाया। बताया कि वे विकलांग दंपति बिरसिंहपुर से आए हैं और वहां एक छोटी सी सब्जी की दुकान लगा कर अपना भरण पोषण करते हैं। लेकिन नगर परिषद के कर्मचारी द्वेष वश उनकी दुकान आए दिन हटा देते हैं। जबकि अन्य बड़े लोगों पर कार्रवाई नहीं होती है। आवेदन किया कि उनकी कमजोर माली हालत और शारीरिक स्थिति देखते हुए समस्या निराकरण किया जाए। जिस पर जिपं सीईओ ने संबंधित अधिकारियों को मामले के उचित निराकरण के निर्देश दिए। इस दौरान अपर कलेक्टर आईजे खलखो भी उपस्थिति रहे।

मांगी अनुकम्पा नियुक्ति
नागौद निवासी प्रतीक्षा मिश्रा ने बताया कि उनकी मां का निधन हो चुका है। वे अनुकंपा नियुक्ति के लिये आवेदन की है लेकिन समय सीमा बाधक बन रही है। जिपं सीईओ ने डीईओ से इस संबंध में जानकारी ली। जिस पर बताया गया कि इनके द्वारा ७ साल के बाद आवेदन लगाया गया है। जबकि यह समयावधि अनुकंपा नियमों के दायरे में नहीं आती है। इस पर जिपं सीईओ ने कोई रास्ता निकालने या शासन से मार्गदर्शन की बात कही। गांधीग्राम की कल्याण बाई चौधरी ने पति के इलाज हेतु आर्थिक सहायता एवं दिव्यांग पेंशन दिलाने, कुंदहरी गांव के महादेव चौधरी तथा मरौंहा के गैवी प्रसाद बागवान ने राशन न मिलने, खजुरीताल इटमा निवासी दशरथ प्रसाद पटेल तथा धवारी निवासी लालमन कुशवाहा ने जमीन पर अवैध कब्जा होने, उचेहरा के ग्राम धनेह निवासी दिव्यांग रूप शंकर कुशवाहा ने अति गरीबी रेखा में नाम जोडने, टिकुरिया टोला निवासी कौशिल्या बाई कुशवाहा ने ट्राइसिकिल दिलाने, नेमुआ रामपुर की रन्नू केवट ने घर में चोरी हो जाने, आमा नागौद के भोला प्रसाद धतुरहा ने प्रधानमंत्री आवास तथा खम्हरिया निवासी गुजरतिया डोहर ने पुत्र की आकस्मिक मुत्यु होने पर आर्थिक सहायता दिलाने की मांग की।

सब जगह बन रहा लेकिन यहां नहीं
एक आवेदन आया और बताया कि उनका जाति प्रमाण पत्र नहीं बनाया जा रहा है। जिस पर आपत्ति ली गई तो वह तल्ख आवाज में बताने लगा कि रीवा में बनाया जा रहा है और अन्य स्थानों में बन रहा है। सिर्फ नागौद में नहीं बना रहे हैं। इस पर जिपं सीईओ ने कहा कि आप इस मामले में एसडीएम नागौद से मिलिए। वे नियमों के अनुसार कार्यवाही करेंगे।

विवाह हो गया लेकिन नहीं मिला हितलाभ
जन सुनवाई में एक महिला पहुंची। उन्होंने बताया कि उचेहरा के विवाह सम्मेलन में उसका विवाह हुआ था। लेकिन आज तक शासन की ओर से मिलने वाला हितलाभ नहीं मिला। जिस पर जिपं सीईओ ने संबंधित अधिकारी से इस संबंध में जानकारी ली। जिस पर बताया गया कि अभी शासन से राशि की डिमांड की गई है। राशि आने के बाद दी जाएगी।

Ramashanka Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned