10th exam tips: भ्रांति को करें दूर, शब्द सीमा का रखें ध्यान तो हिंदी में भी आ सकते हैं शत-प्रतिशत अंक

एग्जाम गाइड: 10वीं बोर्ड के स्टूडेंट्स बेहतर कार्ययोजना के साथ करें परीक्षा की तैयारी

सतना/ हिन्दी में उत्तर लिखते समय अगर शब्द सीमा का ध्यान रखा जाए, बेहतर कार्ययोजना और अच्छी तैयारी की जाए तो हिंदी में भी शत प्रतिशत अंक लाया जा सकता है। यह कहना है हिंदी की शिक्षिका विभा शुक्ला का। वे बताती हैं कि बच्चों में यह भ्रांति होती है कि वह कितना भी लिखें, हिंदी विषय में अंक नहीं मिलते हैं जबकि यह गलत है। छात्र अपनी तैयारी कर स्वयं मूल्यांकन करें।

सीबीएसई ने जो मॉडल पेपर जारी किया है इसे निर्धारित समय पर सॉल्व करें और आकलन करें। जो भी गलती हो रही है उस पर ध्यान दें। अब हिंदी विषय की अच्छी तैयारी के लिए लगभग एक महीने का समय बचा है। परीक्षा परिणाम की दृष्टि से 10वीं के छात्रों के लिए सभी विषयों की योजनाबद्ध तैयारी आवश्यक है।

इन बातों का रखें ध्यान
- छात्र सीबीएसई द्वारा पाठ्यक्रम और प्रश्न पत्र प्रारूप में किए गए परिवर्तनों की सभी जानकारी जरूर एकत्रित करें।
- साहित्य खंड के सभी गद्य-पद्य पाठों को ध्यान से पुनरावृति करें, क्योंकि ये प्रश्न कहीं से भी दिए जा सकते हैं।
- प्रश्न के अनुरूप उत्तर लिखें और उत्तर लिखने में शब्द सीमा का ध्यान रखें।
- छात्र विगत परीक्षा प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें, जिससे वे प्रश्न की मांग को समझ सकें।
- समय प्रबंधन हिंदी परीक्षा के दौरान बहुत जरूरी है अन्यथा कई उत्तर जानते हुए भी समय की कमी के कारण छात्र लिख नहीं पाते हैं।
- उत्तर लिखने में छात्र अपनी प्रस्तुति प्रभावपूर्ण और बोध्यगम रखें। साथ ही साफ.-सुथरी लिखावट का प्रयोग करें।
- प्रश्नों को अनावश्यक रूप से नहीं काटें, न ही निर्धारित स्थान के अलावा कहीं और स्टार बना कर लिखें।
- परीक्षा भवन में उत्तर लिखते समय प्रश्नों को क्रम के अनुरूप और खंड के अनुसार लिखें।
- अपठित गद्यांश को हल करने के लिए प्रश्न-पत्र पठन अवधि का सही उपयोग करें।
- व्याकरण खंड अंक प्रदाय खंड है, इसके पर्याप्त अभ्यास से पूर्णांक अंकों की प्राप्ति संभव है।
- साहित्य खंड में पांच अंक वाले निबंधात्मक प्रश्न भाव प्रधान और मूल प्रधान होते हैं। उनके उत्तर लिखते समय अतिरिक्त सावधानी बरतें क्योंकि यह ज्यादातर उपभागों में बंटे होते हैं।
- रचना खंड के विकल्पों में सबसे अधिक सूचना प्रधान विषयों को चुनें। जिन पर आपकी अच्छी पकड़ हो।
- पत्र, सूचना, लेखन, संवाद आदि के प्रारूप पर अतिरिक्त ध्यान दें, क्योंकि इनके प्रारूप और शुद्ध भाषा पर अंक योजना में अंक निर्धारित रहते हैं।
- सीबीएसई द्वारा टॉपर्स की कॉपी प्रकाशित की जाती है, उनके उत्तर लेखन की शैली को समझने की कोशिश करें।

Show More
suresh mishra Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned