बड़ा खुलासा: 6 बीमारियां से 270 दिन में बुझे 334 घरों के चिराग, यहां पढ़ें स्वास्थ्य विभाग के पोल खोल आंकड़े

suresh mishra

Publish: Mar, 14 2018 12:02:14 PM (IST)

Satna, Madhya Pradesh, India
बड़ा खुलासा: 6 बीमारियां से 270 दिन में बुझे 334 घरों के चिराग, यहां पढ़ें स्वास्थ्य विभाग के पोल खोल आंकड़े

जिले में 6 ऐसी बीमारियां सामने आईं हैं जिनकी वजह से हर साल चार सौ से अधिक नवजात एसएनसीयू में दाखिल होने के बाद भी दम तोड़ रहे हैं।

सतना। जिले में 6 ऐसी बीमारियां सामने आईं हैं जिनकी वजह से हर साल चार सौ से अधिक नवजात एसएनसीयू में दाखिल होने के बाद भी दम तोड़ रहे हैं। मरने वालों में ऐसे नवजात भी शामिल हैं जिन्हें जन्म के साथ ही बीमारी मिली। नवजातों की मौत का खुलासा खुद स्वास्थ्य महकमे की रिपोर्ट कर रही है। एसएनसीयू की रिपोर्ट की मानें तो बीते 270 दिनों में छह बीमारियों से ग्रसित होकर 334 घरों के चिराग बुझ गए।

रिपोर्ट पर गौर करें तो एसएनसीयू में अप्रेल से दिसबंर 17 तक कुल 2202 नवजात दाखिल किए गए। इनमें 1112 इन बॉर्न और 1090 आउट बॉर्न इकाई में भर्ती किए गए। बीमार मासूमों में 1362 मेल और 840 फिमेल थे। 170 मासूमों की स्थिति गंभीर होने पर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया।

मासूमों की स्थिति नाजुक

रिपोर्ट की सच्चाई देखें तो हर तीसरे दिन दो मासूम इलाज के दौरान दम तोड़ रहे हैं। जिम्मेदारों के दावों के उलट नवजातों की मौत का ग्राफ घटने की बजाय हर साल बढ़ता जा रहा है। बीते नौ माह में (अप्रेल-दिसंबर 17 तक ) 334 नवजातों की मौत दर्ज की गई। सात फीसदी से अधिक मासूमों की स्थिति नाजुक होने पर मेडिकल कॉलेज रीवा रेफर कर दिया गया।

रिस्पेट्री डिस्ट्रेट से सबसे ज्यादा मौत
एसएनसीयू प्रबंधन द्वारा हाल ही में नवजातों की मौत के संबंध में रिपोर्ट तैयार की गई है। उसमें बताया गया कि बर्थ एसफिक्सिया (जन्म श्वासरोध ) की वजह से नौ माह में 86 नवजातों की मौत हुई। रिस्पेट्री डिस्ट्रेट (आरडीएस ) की वजह से सबसे ज्यादा 136, प्रिमैच्योरिटी की वजह से 29, कंजनाइटल मलफॉरमेशन से 20, मिकोनियम एस्पे्रशन सिंड्रोम से 13, सेप्सिस से 41 सहित अन्य बीमारियों की वजह से 9 मासूमों की मौत हुई। इसी प्रकार वर्ष 2016-17 में 356 नवजातों की मौत दर्ज की गई थी।

हकीकत
वर्ष कुल एडमिशन इन बॉर्न आउट बॉर्न रेफर डेथ
2016-17 2628 1370 1258 179 356
2017 2202 1112 1090 170 334
(अप्रेल-दिसंबर )

ये हैं छह कारण
- बर्थ एसफिक्सिया (एचआईई) 86
- रिस्पेट्री डिस्ट्रेट सिण्ड्रोम (आरडीएस) 136
- प्रिमैच्योरिटी 29
- कंजनाइटल मलफॉरमेशन 20
- मिकोनियम एस्पे्रशन सिंड्रोम 13
- सेप्सिस 41
- अन्य 09
- कुल मौत 334

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned