मार्कंडेय आश्रम पहुंची 84 कोसी यात्रा, फूल-माला से भक्तों ने किया साधु-संतों का स्वागत

मार्कंडेय आश्रम पहुंची 84 कोसी यात्रा, फूल-माला से भक्तों ने किया साधु-संतों का स्वागत

Suresh Kumar Mishra | Publish: Mar, 17 2019 05:28:55 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

संतों ने बताया महत्व: स्थानीय लोगों ने फूल-माला से किया साधु-संतों का स्वागत

सतना/मारकुंडी। चौरासी कोसी परिक्रमार्थियों का जत्था शुक्रवार को मार्कंडेय आश्रम पहुंचा। क्षेत्रवासियों ने फूल माला से स्वागत किया। भजन प्रवचन व प्रसाद वितरण किया गया। परिक्रमा के संचालक गोविंददास महराज ने कहा कि चौरासी कोसी परिधि के अंदर सैकड़ों धार्मिक स्थल आते हैं, जो कि चित्रकूट की सांस्कृतिक सीमा में हैं। इन धार्मिक स्थलों पर पूजन हवन करने से मनुष्य को 84 लाख योनियों से मुक्ति मिलती है। जीवमात्र को मोक्ष की प्राप्ति होती है। परिक्रमा की शुरुआत फाल्गुन मास की अमावस्या से कामदगिरि परिक्रमा के साथ की जाती है।

एक माह तक चित्रकूट के चौरासी कोस के परिधि में आने वाले पौराणिक स्थलों से गुजरती है। हर स्थल पर रात्रि विश्राम कर पुन: सुबह साधु-संतों का जत्था अगले पड़ाव के लिए जय श्रीराम का उद्घोष करते निकल पड़ता है। चित्रकूट स्थित स्वामी मत्स्यगजेंद्रनाथ महराज का पूजन कर इसका समापन किया जाता है। परिक्रमा के हर पड़ाव में रूद्राभिषेक होता है। शाम को भंडारा कर प्रसाद वितरण होता है। मार्कंडेय आश्रम में रात्रि विश्राम के बाद शनिवार को पुष्करणी सरोवर, विराध कुंड होते हुए टिकरिया के लिए प्रस्थान किया।

खास-खास
आश्रम: जनप्रतिनिधि पर्यटन हब के रूप में विकसित करने का दावा करते हैं, लेकिन मार्कंडेय आश्रम बदहाली का शिकार है। नेता हर बार इस मुद्दे पर वोट लेकर चुनाव जीत जाते हैं, लेकिन आश्रम के नाम एक रुपए खर्च नहीं करते। उनकी अनदेखी के कारण यहां पानी तक के इंतजाम नहीं है। श्रद्धालुओं को परेशान होना पड़ रहा है।

पड़ाव: परिक्रमा का प्रत्येक पड़ाव 12 से 15 किमी को होता है। इसमें गुजरात, महाराष्ट्र, बिहार, मप्र, हरिद्वार ऋषिकेश व मथुरा सहित देशभर से संत-धर्माचार्य शामिल हैं।

चिकित्सा दल: साधु-संतों के प्राथमिक उपचार के लिए परिक्रमा के साथ डॉक्टर भी रहते हैं। ताकि परिक्रमार्थियों को समस्याएं होने पर इलाज मिल सके।

रूद्राभिषेक: परिक्रमा के हर पड़ाव पर वैदिक विद्वानों द्वारा भगवान शिव का रुद्राभिषेक किया जाता है। आश्रम में क्षेत्रवासियों ने रुद्राभिषेक कर पुण्यलाभ अर्जित किया।

साधना: परिक्रमा में आए साधु संत विभिन्न प्रकार की साधनाओं में विलीन दिखे। कोई पंचाग्नि ताप कर तो कोई स्त्रोतों का पाठ कर रहा है। कोइ यज्ञ कर भक्ति में मतवाल है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned