प्रशिक्षु पुलिस अधिकारियों को बेहतर काम करने की ADG ने दी नसीहत, DSP से लेकर SI बैठक में हुए शामिल

एडीजी पहुंचे रीवा, कंट्रोल रूम में हुआ कार्यक्रम

रीवा/ प्रशिक्षु डीएसपी व उपनिरीक्षकों का प्रशिक्षण सोमवार को कंट्रोल रूम में आयोजित किया गया। प्रशिक्षण में शामिल होने के लिए एडीजी जी जनार्दन रीवा पहुंचे थे। कंट्रोल रूम में आयोजित शिविर में आईजी चंचल शेखर, डीआईजी अविनाश शर्मा, एसपी पीटीएस टीके विद्यार्थी, एसपी आबिद खान सहित तमाम अधिकारी उपस्थित रहे। प्रशिक्षण में संभाग के चारों जिलों में पदस्थ 89, 90, 91 बैच के उपनिरीक्षक शामिल है।

कार्यक्रम का उद्देश्य से नवागत अधिकारियों को मिलने वाले प्रशिक्षण को बेहतर करने का था। इस दौरान एडीजी ने प्रशिक्षण के दौरान मिलने वाली जानकारियां और प्रशिक्षण को बेहतर करने की सलाह ली। अधिकारियों ने प्रशिक्षु डीएसपी व उपनिरीक्षक को बेहतर काम करने के निर्देश दिये हैं। एडीजी प्रशिक्षण जी जनार्दन ने कहा कि नवागत पुलिस अधिकारियों को मिलने वाले प्रशिक्षण की गुणवत्ता को सुधारने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है।

प्रशिक्षण के दौरान ऐसी क्या व्यवस्था होनी चाहिए जिससे बेहतर प्रशिक्षण दिया जा सके। इसके लिए प्रशिक्षण लेने वाले सभी उपनिरीक्षकों, डीएसपी से जानकारी लेकर उनसे फीड बैक लिया जा रहा है ताकि भविष्य में प्रशिक्षण को ज्यादा बेहतर किया जा सके। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में आप लोगों ने जो-जो सुझाव दिये हैं उनकी समीक्षा की जायेगी और उन्हें आने वाले समय में प्रशिक्षण में शामिल करने का प्रयास किया जायेगा।

कार्यक्रम में आईजी ने कहा कि आप लोग फील्ड में बेहतर काम करें। अभी आप लोगों के सीखने का समय है। अभी आप लोग जितना बेहतर काम सीखेंगे वह भविष्य में आपके लिए उतना ही उपयोगी होगा। आप समाज के प्रहरी हैं और आपका काम समाज में अपराध व अनैतिक गतिविधियों पर रोक लगाना है। जो भी पीडि़त आपके पास आए तो उसकी हर हाल में मदद करने का प्रयास करें।

प्रशिक्षु उपनिरीक्षकों ने दिए सुझाव
कार्यक्रम में प्रशिक्षु उपनिरीक्षकों ने कई सुझाव दिये है। इसमें प्रशिक्षण के दौरान कम्प्यूूनिकेशन स्कीम अच्छी तरह से लागू करने, प्रशिक्षण के दौरान माइनर एक्ट व केस डायरी का प्रशिक्षण देने सहित अन्य बिंदुओं पर बातें रखी जिनको एडीजी ने भी गंभीरता से सुना और उस पर विचार करने का आश्वासन दिया।

suresh mishra Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned