महापौर निवास नहीं कमिश्नर कार्यालय में रखी थी अमृत पार्क की फाइल, ईई ने किया था गुमराह

Sukhendra Mishra | Publish: Jun, 26 2019 09:01:00 AM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

नगर निगम के कार्यपालन यंत्री नागेंद्र सिंह का कारनामा उजागर, इसी फाइल को लेकर पार्षदों ने किया था हंगामा, स्थगित करनी पड़ी थी परिषद बैठक

सतना. अमृत योजना के तहत बनाए जा रहे पार्क की जिस फाइल को लेकर १३ जून को नगर निगम परिषद की बैठक में जमकर हंगामा हुआ था, सदन में फाइल प्रस्तुत न होने से अध्यक्ष को परिषद की बैठक अनिश्चित काल के लिए स्थगित करनी पड़ी थी, वह फाइल बैठक के दिन महापौर निवास में नहीं बल्कि निगमायुक्त कार्यालय में रखी थी। इसका खुलासा पत्रिका द्वारा की गई पड़ताल में हुआ। नगर निगम के निर्माण प्रभारी व ईई नागेंद्र सिंह ने बिना पुख्ता जानकारी के सदन को यह कहते हुए गुमराह किया था कि अमृत पार्क की फाइल महापौर के निवास में रखी है। इसलिए उसे परिषद की बैठक में पेश करना संभव नहीं है। जबकि हकीकत यह है कि 12 जून को ही अमृत पार्क की फाइल महापौर कार्यालय से स्वीकृत होकर निगमायुक्त कार्यालय को सौंप दी गई थी।

हवाई पट्टी में निर्माणाधीन अमृत पार्क की फाइल एमआइसी की स्वीकृति के लिए कमिश्नर कार्यालय से ६ जून को मेयर कार्यालय गई थी। महापौर ने इस फाइल को एमआइसी की प्रत्याशा में स्वीकृत कर 12 जून को निगमायुक्त कार्यालय को सुपुर्द कर दिया था। फाइल के महापौर कार्यालय आने और वापस जाने की पूरी जानकारी निगमायुक्त कार्यालय के आवक-जावक रजिस्टर में दर्ज है। पार्क की फाइल रिसीव करने वाले कर्मचारी के उक्त तारीख पर आवक रजिस्टर में हस्ताक्षर भी हैं।
बड़ा भ्रष्टाचार छिपाने की कोशिश

चार करोड़ की लागत से बन रहे अमृत पार्क के निर्माण कार्य में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। वार्ड 23 के पार्षद नीरज शुक्ला ने मामले को परिषद की बैठक में उठाते हुए अमृत पार्क की फाइल सदन में रखी और अब तक हुए निर्माण कार्यों की पूरी जानकारी अध्यक्ष से मांगी थी। जब परिषद अध्यक्ष ने पार्क प्रभारी ईई नागेंद्र सिंह को सदन में फाइल के साथ उपस्थित होने को कहा, तो उन्होंने पार्क का भ्रष्टाचार छिपाने के लिए परिषद को गुमराह करने में कोई करस नहीं छोड़ी। ईई ने परिषद को यह कहकर गुमराह किया था कि अमृत पार्क की फाइल महापौर निवास में रखी है। इसिलए उसे आज परिषद के पटल पर रखना संभव नहींं। ईई के इस गुमराह करने वाले बयान से गुस्साए पार्षदों ने फाइल घर ले जाने के मामले में महापौर की कार्यशैली पर सवाल उठाए थे तो फाइल न मिलने तक परिषद की बैठक स्थगित करने की मांग की थी।

परिषद की स्थगित बैठक आज
हंगामा के चलते 13 जून को तीसरी बार स्थगित की गई नगर निगम परिषद की बजट बैठक निगम अध्यक्ष ने 26 जून बुधवार को दोपहर 12 बजे से बुलाई है। बैठक में अमृत पार्क की फाइल को लेकर सदन को गुमराह करने और ईई द्वारा महापौर को बदनाम करने की साजिश को लेकर हंगामे के पूरे आसार है। निगम इंजीनियरों की मनमानीपूर्ण कार्यशैली से गुस्साए पार्षद एवं प्रतिनिधि सदन को गुमराह करने के मामले में ईई पर कार्रवाई का प्रस्ताव भी रख सकते हैं।
ऐसा है अमृत पार्क

23 वार्ड क्रमांक में होगा निर्माण
04 करोड़ रुपए की लागत से बनेगा

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned