एक बीता जमीन के विवाद में बुजुर्ग को दौड़ाकर गोली मारी

नागौद के पिपरोखर गांव में हुई वारदात, पुलिस अधीक्षक घटना स्थल पर पहुंचे, पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया

By: Dhirendra Gupta

Published: 02 Mar 2021, 10:03 AM IST

सतना. एक बीता जमीन के विवाद में सुबह धमकी देने के बाद दोपहर में बुजुर्ग को दौड़ाकर गोली मार दी गई। यह सनसनीखेज वारदात नागौद थाना इलाके के पिपरोखर में सोमवार की शाम करीब 4 बजे हुई है। खबर पाते ही पुलिस मौके पर दौड़ी। इस गंभीर घटना के बारे में सुनते ही पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह भी घटना स्थल पर पहुंचे। मृतक के परिजनों से पूछताछ के बाद पुलिस ने घेरा बढ़ाते हुए वारदात में शामिल दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनके कब्जे से १२ बोर की एक दो नाली बंदूक भी जब्त की गई है।
पता चला है कि गढ़ी टोला पिपरोखर निवासी रामबहोरी तिवारी पुत्र नाथूराम तिवारी (68) सोमवार की दोपहर करीब 4 बजे मवेशी चराने के लिए घर से खेतों की ओर निकले थे। तभी बाइक से आए दो बदमाशों ने उनकी तरफ बंदूक से निशाना साधा तो बचने के लिए रामबहोरी खेत की ओर भागे तभी तभी एक बदमाश ने उन्हें गोली मार दी और फिर आरोपी फरार हो गए। घटना के दौरान पास ही मौजूद एक ग्रामीण ने देखा तो मृतक के परिजनों को सूचना भेजी।
सुबह हुआ था झगड़ा
यह बात सामने आ रही है कि रमेश उरमलिया का घर रामबहोरी के पड़ोस में बना है। यहां जमीन का कुछ हिस्सा जो तिवारी परिवार का था वह खाली छूटा था। एक साल पहले इस जमीन पर विवाद उपजा तो राजस्व अमले की मदद से नाप कराई गई। जिसमें तिवारी परिवार की जमीन निकली। बताते हैं कि हाल ही में उरमलिया परिवार बाउण्ड्री निर्माण करा रहा था जिसमें तिवारी परिवार की करीब एक बीता जमीन दब रही थी। इसी बात पर दोनों परिवार के बीच सुबह झगड़ा हुआ तो उरमलिया परिवार ने जान से मारने की धमकी दी थी।
पुलिस ने शुरू की घेराबंदी
जैसे ही पुलिस तक गोली मारकर हत्या की खबर पहुंची तो नागौद थाना के निरीक्षक आरपी सिंह ने थाना से पुलिस की अलग अलग टीमें रवाना कर दीं। पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने बताया कि वारदात के कुछ ही घ्ंाटों के अंदर आरोपी पप्पू उरमलिया उर्फ विवेक शर्मा पुत्र रमेश निवासी पिपरोखर हाल मुकाम जवाहर नगर और उसके एक साथी वीरेन्द्र गर्ग निवासी महादेवा को गिरफ्तार कर लिया गया। इनके कब्जे से १२ बोर की दो नाली बंदूक जब्त की गगई है जो पप्पू की बताई जा रही है।
सड़क से तानी बंदूक
यह बात सामने आई है कि आरोपी पप्पू शहर के जवाहर नगर में रहकर यूसीएल में कम्पाउंडर का काम करता था। लॉक डाउन में वह परिवार को लेकर गांव चला गया था। यहां शहर में उसे पप्पू पिपरोखकर के नाम से ही लोग जानते हैं। पप्पू शराब पीने का आदी है और अपने साथी वीरेन्द्र को मोटर साइकिल से लेकर गांव के नजदीक पहुंचा तो उसने रामबहोरी को देखते ही सड़क से बंदूक तान दी। एेसे में करीब 400 मीटर तक रामबहोरी जान बचाकर भागे और फिर गोली लगते ही ढेर हो गए। यह बात सामने आ रही है कि पप्पू के बेटों से भी रामबहोरी के नातियों का कई साल पहले विवाद हुआ था।

Dhirendra Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned