शराब दुकान के विरोध में फूटा गुस्सा, सड़क पर उतरे लोग

शराब दुकान के विरोध में फूटा गुस्सा, सड़क पर उतरे लोग
Anger erupted against liquor store, people on the road, time given for lockout

Bajrangi Rathore | Updated: 23 Aug 2019, 11:25:40 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

शराब दुकान के विरोध में फूटा गुस्सा, सड़क पर उतरे लोग, तालाबंदी को दिया समय

सतना। मप्र के सतना जिले के धवारी स्टेडियम काम्प्लेक्स की दुकान में मापदण्डों का उल्लंघन कर संचालित की जा रही शराब दुकान का मामला तूल पकडऩे लगा है। निगमायुक्त द्वारा 28 जून तक शराब दुकान बंद करने के नोटिस के बाद भी शराब दुकान का कारोबार निर्बाध जारी रहने को लेकर अब लोगों में गुस्सा भड़कने लगा है।

इस दुकान को बचाने में जिस तरीके से निगम और आबकारी के अमले ने अपनी ताकत झोंक रखी है, उससे सरकारी सिस्टम पर सवालिया निशान तो लग ही रहे हैं दूसरी ओर लोग भी आंदोलित होने लगे हैं। गुरुवार को सैकड़ों युवाओं ने धवारी शराब दुकान के सामने प्रदर्शन कर प्रशासन को ज्ञापन सौंपा।

चेतावनी दी कि चार दिन में अगर दुकान में तालाबंदी नहीं होती है तो उग्र प्रदर्शन किया जाएगा। हालांकि इस प्रदर्शन को लेकर पुलिस अधिकारियों और शराब ठेकेदार के पेट में दर्द स्पष्ट देखा गया और ऐसा न करने प्रदर्शनकारियों को तमाम समझाइश दी जाती रही।

ठेकेदार ने बुलाए गुर्गे

धवारी शराब दुकान के सामने दोपहर एक बजे युवाओं का हुजूम पहुंच चुका था। सभी शांति पूर्वक शराब दुकान के सामने खड़े होकर प्रदर्शन करने लगे। पूर्व घोषित प्रदर्शन को लेकर शराब दुकान के ठेकेदार ने भी अपने गुर्गों को दुकान की छत पर चढ़ा रखा था, तो उसके लोग लगातार यहां के फोटो लेकर अपने आकाओं को भेजते नजर आ रहे थे।

हालांकि शांतिपूर्ण प्रदर्शन के चलते स्थितियां पूरी तरह शांत थीं, लेकिन माहौल में तनाव भी साफ दिख रहा था। इसी बीच सिटी कोतवाली टीआई अपनी निजी कार में यहां पहुंचे और प्रदर्शनकारियों से मुलाकात कर मामला समझने की कोशिश की।

न्याय के लिए होगी आर-पार की लड़ाई

हिमांशु पटनहा ने कहा कि मैं न दुकान का और न ठेकेदार का विरोध कर रहा हूं। मैं वार्डवासियों और बहनों के लिए न्याय की लड़ाई लड़ रहा हूं। हमारी मांग है कि तम मापदण्डों के विरुद्ध चल रही इस दुकान को हटाया जाए। यहां नियम विरुद्ध तरीके से शराब दुकान के लिए किराए पर दिया गया। शैक्षणिक परिसर के बगल में संचालन हो रहा है। इस दौरान शनि द्विवेदी, राजन गुप्ता, प्रमित गुप्ता अज्जु, साहिल सकरिया, मनु गौतम, गुल्लू, विक्की, रमन, गौरव, विवेक, रघु यादव, अमित मौजूद रहे।

प्रदर्शन रुकवाने चलता रहा सिफारिशों का दौर

प्रदर्शन को लेकर कई पुलिस अधिकारियों के भी चेहरे सामने आ गए हैं जो शराब दुकान के पक्ष में इस प्रदर्शन को टलवाना चाह रहे थे। प्रदर्शनकारियों से संपर्क कर किसी भी स्थिति में प्रदर्शन टालने की बात कह रहे थे तो ठेकेदार को उनके पास भेजने तक की बात कही। इसी तरह ठेकेदार भी सुबह से प्रदर्शनकारियों तक पहुंच मानमनोव्वल में जुटा रहा, लेकिन आंदोलनकारियों ने किसी की नहीं सुनी और कहा कि व्यापक जनहित में कोई समझौता नहीं होगा और प्रदर्शन पूरी तरह शांतिपूर्ण रहेगा।

साहब वर्दी से इतर आप भी इंसान हैं

सिटी कोतवाली टीआई ने जब मामला पूछा तो यहां नेतृत्व कर रहे जतिन जैन, रमाशंकर मिश्रा, हिमांशु पटनहा ने कहा कि आप भी वर्दी के पीछे इंसान हैं। जब खुद निगम इस दुकान को २८ जून को बंद करने का नोटिस दे चुका है तो फिर इसे बंद न करना आपकी क्या मजबूरी है।

जिला प्रशासन की आखिर ऐसी क्या बेबशी है जो इसके आगे हाथ बांध कर खड़ा है। यह स्थिति तब है जब स्थानीय लोग पहले भी आंदोलन प्रदर्शन कर चुके हैं। अधिकारियों को ज्ञापन दिया जा चुका है। चंद कदम की दूरी पर नर्सों का हास्टल है, जिसकी खिड़कियां इधर खुलती हैं और यहां शाम को मयखाना खुल जाता है। इस दुकान में तत्काल तालाबंदी की जाए।

तब टीआई ने अपनी सफाई दी कि वे सिर्फ यहां लॉ एण्ड आर्डर मेंटेन करने आए हैं। यह काम प्रशासनिक अधिकारियों का है। तब उन अधिकारियों को ज्ञापन के लिए बुलाने कहा गया जो ठोस आश्वसन दे सकें। इस पर टीआई ने बताया कि कलेक्टर मुख्यालय से बाहर हैं, एसडीएम बाबूपुर में है और एडीएम चुनाव कार्य करवा रहे।

स्थितियों को समझते हुए युवाओं ने अपना ज्ञापन टीआई को सौंपा और चेतावनी दी कि चार दिन में अगर दुकान बंद नहीं होती है तो फिर उग्र आंदोलन किया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned