अवैध निर्माण व बिल्डिंग गिराने 50 से अधिक शिकायते पेंडिंग, झोपड़ों में चला रहे बुलडोजर

अतिक्रमण हटाने को लेकर निगम प्रशासन के दोहरे मापदंड पर उठे सवाल

By: Sukhendra Mishra

Published: 24 May 2020, 01:30 AM IST

सतना. ओवर ब्रीज के नीचे बसी झोपड़पट्टी में जेसीबी चलाने के दौरान अतिक्रमण दस्ते एवं स्थानीय लोगों के बीच हुए खुनी संघर्ष के बीच निगम प्रशासन की अतिक्रमण कार्रवाई सवालों में घिर गई है। शहर के पार्षद एवं लोगों ने अतिक्रमण दस्ते पर गरीब और अमीर देखकर कार्रवाई करने का अरोप लगाया है। लोगों का कहना है कि रसूखदारों ने बीच सड़क पर निर्माण कर लोगों का रास्ता रोक रखा है। कई रसूखदारों ने सड़क व नाले के ऊपर अवैध रूप से बिल्डिग तान ली है। इन अवैध निर्माणों को गिराने निगम कार्यालय में ५० से अधिक फाइले पेंडिंग हैं। जिन पर निगम प्रशासन एक साल बीत जाने के बाद भी कार्रवाई नहीं कर सका। फिर ओवर ब्रीज के नीचे बसी कालोनी से शहर या निगम को एेसी कौन सी परेशानी हो रही है कि गरीबों के झोपडा गिराने निगम कर्मचारी मारपीट पर उतर आए।

अतिक्रमण की आड़ में हो रही वसूली
निगम से जूड़े सूत्रों का दावा है कि अतिक्रमण शाखा के अधिकारियों द्वारा निगमायुक्त को गुमराह कर अतिक्रमण हटाने के नाम पर शहर में अवैध वसूली की जा रही है। रसूखरों से मोटी रकम लेकर अतिक्रमण हटाने की फाइले दवा दी जाती है। वहीं रसूखदारों की जमीन व रास्ते खाली कराने अतिक्रमणदस्ता गरीबों के झोपड़ों में जेसीबी चला रहा है।
केस-1
उतैली वार्ड २२ में तीन स्थानों पर रसूखदारों ने बीच सड़क पर अवैध निर्माण कर सड़क अवरुद्ध कर रही है। इसकी शिकायत वार्ड पार्षद एवं स्थानीय लोगों द्वारा कई बार की गई। लेकिन निगम प्रशासन रसूखदारों द्वारा किए गए अतिक्रमण को हटाने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। बार-बार शिकायत के बाद भी सार्वजनिक सड़क को अतिक्रमण मुक्त नहीं कराया जा रहा है।
केस- 2
बम्हनगवां में एक व्यक्ति ने सड़क में कब्जा कर अपना गैराज बना लिया है। जिसकी शिकायत वार्ड पार्षद एवं स्थानीय लोगों ने अतिक्रमण प्रभारी से लेकर निगमायुक्त तक सभी से की है। लेकिन महीनों बीत जाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। इससे इस सड़क पर बड़े वाहन नहीं निकल पा रहे हैं।

Sukhendra Mishra Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned